Best Tatpurush Samas in Hindi – तत्पुरुष समास के 10 उदाहरण

तत्पुरुष समास की परिभाषा (Tatpurush Samas in Hindi):-

░I░m░p░o░r░t░a░n░t░ ░T░o░p░i░c░s░

पर्यायवाची शब्द? विलोम शब्द? क्रिया विशेषण?

Tense in Hindi संज्ञा की परिभाषा? विशेषण शब्द लिस्ट?

सर्वनाम किसे कहते हैं? पदबंध class 10, वाक्य किसे कहते हैं, इसके कितने भेद हैं?

Tatpurush Samas in Hindi - तत्पुरुष समास के 10 उदाहरण

जिस समस्तपद में उत्तरपद (अन्तिम पद) की प्रधानता रहती है, उसे ‘तत्पुरुष समास’ कहते हैं, जैसे- राजकन्या, देवपुत्र आदि। इन सभी शब्दों का क्रमशः वह राजा की कन्या तथा ‘देव का पुत्र’ । ‘राजकन्या जाती हैं इस वाक्य में जाना क्रिया का सम्बन्ध कन्या से है. राजा से नहीं जाने वाली कन्या है राजा नहीं । जाना’ क्रिया भी ‘ कन्या ‘ के ही अनुसार स्त्रीलिंग में प्रयुक्त है। अत: ‘राजकन्या’ शब्द में बाद वाले ‘कन्या’ शब्द की प्रधानता है, इसलिए यह तत्पुरुष समास है। देवपुत्र के साथ भी यही बात है। तत्पुरुष समास में समस्तपदों के लिंग और वचन अन्तिम पद के अनुसार ही होते हैं।

तत्पुरुष समास के उदाहरण (tatpurush samas ke udaharan) और भेद:-

अवयव की दृष्टि से तत्पुरुष समास के दो भेद है:-

१. व्यधिकरण तत्पुरुष

२. समानाधिकरण तत्पुरुष

१. व्यधिकरण तत्पुरुष:- व्यधिकरण तत्पुरुष ‘व्यधिकरण तत्पुरुष’ उसे कहते हैं, जिसमें प्रयुक्त पदों में से पहला पद कर्ता कारक (प्रथमा विभक्ति) का नहीं होता जैसे – धर्म बन्धनमुक्त आदि। इन दोनों शब्दों का विग्रह है ‘धर्म से भ्रष्ट तथा ‘बन्धन से मुक्त’। ‘धर्म’ तथा ‘बन्धन’ शब्दों में कर्ता कारक नहीं है, बल्कि अपादान कारक है या पंचमी विभक्ति है; अत: ‘धर्मभ्रष्ट’ और बन्धनमुक्त में व्यधिकरण तत्पुरुष है।

व्यधिकरण तत्पुरुष  समास के उदाहरण तथा छह भेद:-

व्यधिकरण तत्पुरुष के छह भेद:-

(1) द्वितीया तत्पुरुष, (2) तृतीया तत्पुरुष, (3) चतुर्थी तत्पुरुष, (4) पंचमी तत्पुरुष, (5) षष्ठी तत्पुरुष तथा (6) सप्तमी तत्पुरुष। द्वितीया, तृतीया आदि के स्थान पर कर्म, करण आदि भी कहे जाते हैं।

(1) द्वितीया तत्पुरुष:- इसके पहले पद में कर्म कारक या द्वितीया विभक्ति हती है, जैसे-सुख को प्राप्त सुखप्राप्त गृह को आगत-गृहागत ।

(2) तृतीया तत्पुरुष:- इसके पहले पद में करण कारक या तृतीया विभक्ति ड़ती है, जैसे बाण से विद्ध बाणविद्ध। बाक् से युद्ध वायुद्ध, नीति से युक्त नीतियुक्त।

(3) चतुर्थी तत्पुरुष:- इसके पहले पद में सम्प्रदान कारक या चतुर्थी विभक्ति रहती है। जैसे-कृष्ण के लिए अर्पण कृष्णार्पण। देव के लिए बलि देवबलि सभा के लिए भवन सभाभवन ।

(4) पंचमी तत्पुरुष:- इसका पहला पद अपादान कारक या पंचमी विभक्ति से युक्त होता है, जैसे- बन्धन से मुक्त बन्धनमुक्त ऋण से मुक्त ऋणमुक्त जाति से भ्रष्ट जातिभ्रष्ट।

(5) षष्ठी तत्पुरुष:- इसके प्रथम पद में सम्बन्ध कारक या पष्ठी विभक्ति रहती है; जैसे- कन्या का दान कन्यादान। सेना का नायक सेनानायक पुस्तक का आलय पुस्तकालय ।

(6) सप्तमी तत्पुरुष:- इसके पहले पद में अधिकरण कारक या सप्तमी विभक्ति रहती है; जैसे कार्य में कुशल कार्यकुशल ग्राम में वास ग्रामवास, प्रेम में मग्न प्रेममग्न।

Tatpurush Samas in Hindi - तत्पुरुष समास के 10 उदाहरण

२. समानाधिकरण तत्पुरुष:-जिस तत्पुरुष के सभी पदों में समान कारक या विभक्ति (कर्ता कारक- प्रथमा विभक्ति) पायी जाय, उसे समानाधिकरण तत्पुरुष कहते हैं, जैसे- नीला है जो उत्पल-नीलोत्पल ‘नीलोत्पल’ शब्द में दो शब्द है नौल और उत्पल इन शब्दों में प्रथमा विभक्ति है, अतः यहाँ समानाधिकरण तत्पुरुष है।समानाधिकरण तत्पुरुष को ही ‘कर्मधारय कहते है।

‘कर्मधारय समास कई रूपों में पाया जाता है, जैसे- (1) विशेषण विशेष्य, (2) द्विगु, (3) उपमानोपमेय, (4) प्रादि समास (5)अन्ञ् समास और (6) मध्यमपदलोपी तत्पुरुष ।

(1) विशेषण विशेष्य:- इस समास में पहला पद विशेषण होता है और दूसरा पद विशेष्यः जैसे महान् राजा-महाराजा । पर आत्मा परमात्मा। नील कमल नीलकमल । इनका विक्रमश होगा महान् है जो राजा, परम से जो आत्मा तथा नील है जो कमल ।

(2) द्विगु:- जिस कर्मधारय में पहला पद संख्यावाचक हो, उसे ‘द्विगु समास’ कहते हैं, जैसे- पाँच पात्र पंचपात्र। तीन भुवन त्रिभुवन, चार वर्ण चतुर्वर्ण, तीन फल-त्रिफला ।

(3) उपमानोपमेय या रूपक:- जिससे किसी चीज की उपमा दी जाय उसे ‘उपमान’ कहते है और जिसकी उपमा दी जाय उसे ‘उपमेय’ कहते है। इस समास में उपमेय का पहले प्रयोग होता है और उपमान का बाद मे जैसे चन्द्र की तरह मुख चन्द्रमुख कमल की तरह मुख मुखकमल ।

जब समता की अधिकता दिखानी हो, तो की तरह का प्रयोग न कर ‘रूपी’ शब्द का प्रयोग करते हैं। जैसे- मुखरूपकमल मुख कमल नेत्रकमल आदि।

(4) प्रादि समास:- इसमें प्र आदि उपसगों तथा दूसरे शब्दों का समाय होता है। ” आदि के साथ उन्हीं के अंग के रूप में दूसरे शब्द भी जुड़े रहते हैं, परन्तु समास करने पर हो जाते हैं जैसे- प्रकृष्ट आचार्य प्राचार्य ।

(5) अन्ञ् समास:- इस समास का पहला पद” (अर्थात् नकारात्मक) होता है। समास में यह अन्ञ् अन, अ, अन् रूप में पाया जाता है। कभी-कभी यह ‘न’ रूप में भी पाया जाता है, जैसे – न देखा-अनदेखा।

(6) मध्यमपदलोपी तत्पुरुष:- यह भी कर्मधारय का ही भेद है, परन्तु इसमें जिन शब्दों का समास होता है, उनमें सम्बन्ध बतलाने वाले शब्दों का लोप होता है। जैसे – देवपूजक ब्राह्मण = देवब्राह्मण, शाकप्रिय पार्थिव = शाकपार्थिव। यहाँ ‘देव’ और ‘ब्राह्मण’ तथा ‘शाक और ‘पार्थिव’ का सम्बन्ध बताने वाले शब्द ‘पूजक’ तथा ‘प्रिय’ लुप्त हो गये है ।

उपपद समास और अलुक समास भी तत्पुरुष के भेद है।

उपपद समास:- जिस समास का अन्तिम पद ऐसा कृदन्त होता है, जिसका अलग से प्रयोग नहीं होता, उसे उपपद समास’ कहते हैं।जैसे-जल को देनेवाला जलद ।

अलुक समास:- जिस तत्पुरुष के पहले पद की विभक्ति का लोप नहीं होता, उसे ‘अलुक् तत्पुरुष’ कहते हैं, जैसे – युधिष्ठिर, खेचर आदि।

Tags:- tatpurush samas, tatpurush samas ke udaharan, tatpurush samas in hindi, tatpurush samas ki paribhasha, तत्पुरुष समास के उदाहरण, तत्पुरुष समास, तत्पुरुष समास की परिभाषा, तत्पुरुष समास का उदाहरण, तत्पुरुष समास के उपभेद, उपपद तत्पुरुष समास, अलुक् तत्पुरुष, तत्पुरुष समास का अर्थ, तत्पुरुष समास के प्रकार ।

मातृ दिवस पर निबंध 2023 – Best Mother’s Day Essay in Hindi

मातृ दिवस पर निबंध (Mother’s Day Essay in Hindi) Mother’s Day Essay In Hindi: मदर्स डे हर किसी के लिए एक अहम दिन होता है। एक माँ अपने बच्चे की पहली शिक्षक होती है। एक शिक्षक जो एक मित्र की भूमिका भी निभाता है। एक माँ अपने बच्चे के जन्म से लेकर उसके जीवित रहने…

Continue Reading मातृ दिवस पर निबंध 2023 – Best Mother’s Day Essay in Hindi

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 2023 – Best Independence Day Essay

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (Independence Day Essay in Hindi) 15 अगस्त 1947 भारतीय इतिहास का सबसे शुभ और महत्वपूर्ण दिन था जब हमारे भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत देश को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर दिया था। भारत की स्वतंत्रता के साथ, भारतीयों ने पंडित जवाहरलाल नेहरू के रूप में अपना…

Continue Reading स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 2023 – Best Independence Day Essay

26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर निबंध – Republic Day Essay in Hindi

गणतंत्र दिवस पर निबंध – Republic Day Essay 26 जनवरी भारत के तीन महत्वपूर्ण राष्ट्रीय पर्वों में से एक है। 26 जनवरी को पूरे देश में बड़े उत्साह और सम्मान के साथ गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत का गणतंत्र और संविधान इसी दिन लागू हुआ था। इसीलिए यह दिन हमारे देश…

Continue Reading 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर निबंध – Republic Day Essay in Hindi

नारी शिक्षा पर निबंध – Best Nari Shiksha Essay in Hindi 2023

नारी शिक्षा पर निबंध – Nari Shiksha Essay in Hindi प्रस्तावना – हमारा समाज पुरुष प्रधान है। यहां यह माना जाता है कि पुरुष बाहर जाते हैं और अपने परिवार के लिए कमाते हैं। महिलाओं से अपेक्षा की जाती है कि वे घर पर रहें और परिवार की देखभाल करें। पहले इस व्यवस्था का समाज…

Continue Reading नारी शिक्षा पर निबंध – Best Nari Shiksha Essay in Hindi 2023

Best Circus Essay in Hindi – सर्कस पर निबंध इन हिंदी – 2022

Circus Essay in Hindi – सर्कस पर निबंध इन हिंदी सर्कस भी मनोरंजन का एक साधन है। जिसे हर उम्र के लोग पसंद करते हैं। सर्कस में तरह-तरह के करतब किए जाते हैं। शेर, हाथी, भालू आदि जंगली जानवरों को सर्कस में प्रशिक्षित किया जाता है और विभिन्न खेल और चश्मे दिखाए जाते हैं। वहीं…

Continue Reading Best Circus Essay in Hindi – सर्कस पर निबंध इन हिंदी – 2022

वर्षा ऋतु पर निबंध – Best Rainy Season Essay in Hindi 2022

वर्षा ऋतु पर निबंध (Rainy Season Essay in Hindi) साल के मौसम हमारे लिए बहुत सारी खुशियाँ लेकर आते हैं। भारत में मानसून एक बहुत ही महत्वपूर्ण मौसम है। वर्षा ऋतु मुख्य रूप से आषाढ़, श्रवण और वडो के महीनों में होती है। मुझे बरसात का मौसम बहुत पसंद है। यह भारत में चार सत्रों…

Continue Reading वर्षा ऋतु पर निबंध – Best Rainy Season Essay in Hindi 2022

Leave a Comment