Preposition in Hindi: संबंधबोधक – परिभाषा, भेद, कार्य, उदाहरण

संबंधबोधक परिभाषा (Preposition in hindi):-

Preposition in hindi: संबंधबोधक - परिभाषा, भेद, कार्य, उदाहरण

░I░m░p░o░r░t░a░n░t░ ░T░o░p░I░c░s░

Adverb in Hindi: क्रिया विशेषण – परिभाषा, भेद, कार्य, उदाहरण

Tense in Hindi काल किसे कहते हैं?

250+ Best विशेषण शब्द लिस्ट

जो अव्यय संज्ञा के बाद आकर उसका सम्बन्ध वाक्य के दूसरे शब्द के साथ बतलाता है, उसे ‘सम्बन्धबोधक’ कहते हैं, जैसे- वह दिनभर रोता रहा; दवा के बिना रोगी मर गया। पहले वाक्य में ‘भर’ शब्द दिन का सम्बन्ध रोना से और दूसरे वाक्य में ‘बिना’ शब्द दवा का सम्बन्ध मरना से बतलाता है।

संबंधबोधक के कितने भेद हैं?

इन तीन आधारों पर सम्बन्धबोधक अव्यय के भेद किये गये हैं।

१. प्रयोग

२. अर्थ

३. व्युत्पत्ति

१. प्रयोग:- प्रयोग के अनुसार इसके दो भेद है:-

(क) सम्बद्ध
(ख) अनुबद्ध

(क) सम्बद्ध :- सम्बद्ध सम्बन्धबोधक अव्यय संज्ञाओं की विभक्तियों के बाद आते हैं; जैसे- भोजन से पहले घर के बिना यहाँ ‘पहले’ और ‘बिना’ सम्बद्ध सम्बन्धबोधक है, क्योंकि ये ‘भोजन’ तथा ‘घर’ शब्द की विभक्ति (क्रमशः) ‘से’ और ‘के’ के बाद आये हैं।

(ख) अनुबद्ध :- अनुबद्ध सम्बन्धबोधक अव्यय संज्ञा के विकृत रूप के बाद है जैसे बच्चों सहित वर्षों तक कभर यहाँ ‘सहित’, ‘तक’ तथा ‘भ अनुद्धसम्बन्ध है, क्योंकि इसके पहले आये शब्द बच्चों तथा ‘कटोरे क्रमश: ‘बच्चा’, ‘वर्ष’ तथा ‘कटोरा’ शब्द के विकृत रूप है।

२.अर्थ:- अर्थ के अनुसार सम्बन्धबोधक अव्यय के अनेक प्रकार हो सकते:-

(1) कालवाचक:- आगे पीछे पहले, बाद आदि।

(2) स्थानवाचक:- नगदी, समीप, भीतर आदि।

(3) सादृश्यवाचक:- समान, तरह, तुल्य आदि ।

(4) तुलनावाचक:- अपेक्षा, बनिस्बत आदि ।

(5) उद्देश्यवाचक:- लिए, वास्ते, हेतु, निमित्त आदि।


(6) व्यतिरेकवाचक:- रहित,अतिरिक्त, शिवाय, बगैर, शिवा, बिना, अलावा आदि।


(7) कारणवाचक:- के कारण परेशानी से, के मारे, आदि ।


(8) विरोधवाचक:- विपरीत, विरुद्ध,विरोध आदि।


(9) साधनवाचक:- जरिए, द्वारा, माध्यम, सहारे, मार्फत आदि।


(10) तुलनावाचक:- अपेक्षा, समक्ष, समान, के सामने आदि।


(11) उद्देश्यवाचक:- लिए, निमित्त, हेतु, वास्ते आदि।


(12) साहचर्यवाचक:- समेत, साथ, संग, सहित आदि।


(13) संग्रहवाचक:- मात्र, लगभग, केवल, तक, अंतर्गत, भर आदि ।


(14) विषयवाचक:- संबंध, विनय, भरोसे, आश्रय आदि

३. व्युत्पत्ति:- व्युत्पत्ति के अनुसार सम्बन्धबोधक अव्यय के दो भेद है:-

(क) मूल

(ख) यौगिक

(क) मूल:- मूल सम्बन्धबोधक अव्यय- बिना पर्यन्त आदि।

(ख) यौगिक:- यौगिक सम्बन्धबोधक अव्यय- ये दूसरे शब्दों से बने होते हैं। जैसे वास्ते तुल्य पीछे आदि।

Preposition in hindi: संबंधबोधक - परिभाषा, भेद, कार्य, उदाहरण

संबंधबोधक अव्यय उदाहरण in Hindi तथा कार्य:-

१. सम्बन्धबोधक किसी के बाद आकर उसका सम्बन्ध उस वाक्य के दूसरे शब्द के साथ बतलाता है, जैसे- रामू रातभर रोता रहा। यहाँ ‘भर’ सम्बन्धबोधक रात का सम्बन्ध रोना से बतला रहा है।

२. सम्बन्धबोधक काल, स्थान, साम्य तथा तुलना का बोध कराता है,जैसे:-

वह मेरे बाद कक्षा में आया।
उसका मुँह चाँद के समान है।
वह मेरे घर के निकट रहता है।
तुम मेरी अपेक्षा चतुर हो।
यहाँ ‘बाद’, ‘समान’, ‘निकट’ और ‘अपेक्षा सम्बन्धबोधक क्रमशः काल, साम्य स्थान और तुलना का बोध कराते हैं।

अव्यय किसे कहते हैं?

अव्यय परिभाषा:- जिस शब्दरूप में किसी कारण भी कोई विकार नहीं पैदा होता, उसे अव्यय कहते हैं, जैसे- अभी, जब तब आदि ।

अव्यय के कितने भेद हैं?

अव्यय के चार गेंद हैं:-
१. क्रियाविशेषण
२. सम्बन्धबोधक
३. समुच्चयबोधक
४. विस्मयादिबोधक

संबंधबोधक किसे कहते हैं?

जो अव्यय संज्ञा के बाद आकर उसका सम्बन्ध वाक्य के दूसरे शब्द के साथ बतलाता है, उसे ‘सम्बन्धबोधक’ कहते हैं, जैसे- वह दिनभर रोता रहा; दवा के बिना रोगी मर गया। पहले वाक्य में ‘भर’ शब्द दिन का सम्बन्ध रोना से और दूसरे वाक्य में ‘बिना’ शब्द दवा का सम्बन्ध मरना से बतलाता है।

संबंधबोधक के कितने भेद हैं?

इन तीन आधारों पर सम्बन्धबोधक अव्यय के भेद किये गये हैं।
१. प्रयोग
२. अर्थ
३. व्युत्पत्ति

Tage:- संबंधबोधक के कितने भेद हैं, types of preposition in hindi, प्रीपोजिशन कितने प्रकार के होते हैं, प्रीपोजिशन को हिंदी में क्या कहते हैं, Preposition क्या है in Hindi, What is preposition in Hindi Definition, preposition definition and examples, संबंधबोधक Examples.

  • बवासीर के लक्षण और उनसे बचने के उपाय

    बवासीर के लक्षण बवासीर एक आम समस्या है जो किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है। यह तब होता है जब मल त्याग करने वाली नसें सूज जाती हैं और गुदा के आसपास की त्वचा के नीचे बढ़ जाती हैं। बवासीर के दो मुख्य प्रकार होते हैं – आंतरिक बवासीर और बाहरी…

  • बवासीर के लक्षण और उनसे बचने के उपाय

    बवासीर के लक्षण बवासीर एक आम समस्या है जो किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है। यह तब होता है जब मल त्याग करने वाली नसें सूज जाती हैं और गुदा के आसपास की त्वचा के नीचे बढ़ जाती हैं। बवासीर के दो मुख्य प्रकार होते हैं – आंतरिक बवासीर और बाहरी…

  • बवासीर के मस्से सुखाने के उपाय | Piles Treatment in Hindi

    बवासीर के मस्से सुखाने के उपाय बवासीर एक आम समस्या है जो किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है। यह तब होता है जब मल त्याग करने वाली नसें सूज जाती हैं और गुदा के आसपास की त्वचा के नीचे बढ़ जाती हैं। बवासीर के दो मुख्य प्रकार होते हैं – आंतरिक…

  • फोबिया: सबसे अच्छा आयुर्वेदिक और मनोवैज्ञानिक उपचार

    फोबिया: एक परिचय यह एक मानसिक स्वास्थ्य समस्या है जिसमें किसी विशिष्ट चीज़, स्थिति, या जीवन्त वस्तु के प्रति असमान संवेदनशीलता होती है। यह दर, घबराहट, और शारीरिक असामर्थ्य के साथ आ सकता है। फोबिया क्या है? Phobia एक मानसिक स्वास्थ्य समस्या है जिसमें व्यक्ति किसी विशेष चीज़, स्थिति, या प्राणी से गहरा डर प्राप्त…

  • Motiyabind Kya Hai (मोतियाबिन्द मीनिंग) – व्याख्या और उपयोग

    Motiyabind Kya Hai(मोतियाबिन्द मीनिंग) क्या आपको पता है कि “मोतियाबिन्द” शब्द का क्या मतलब होता है और इसका कैसे उपयोग किया जाता है? यदि नहीं, तो इस लेख में हम आपको “मोतियाबिन्द” शब्द के मतलब और इसके विभिन्न प्रकारों की व्याख्या देंगे और यह भी बताएंगे कि आप इसे अपने जीवन में कैसे उपयोग कर…

  • Motiyabind Operation (मोतियाबिंद ऑपरेशन): आंखों की स्वास्थ्य के लिए नई उम्मीद

    Motiyabind Operation: मोतियाबिंद ऑपरेशन, जिसे आंखों के कई रोगों का इलाज के रूप में किया जाता है, आजकल आंखों के स्वास्थ्य को सुधारने के लिए एक महत्वपूर्ण तकनीक बन गई है। यह तकनीक आंखों के कई प्रकार के रोगों के इलाज के लिए उपयोगी है, और यह एक नई आशा का स्रोत है जिसे लोग…

  • Motiyabind ke Lakshan (मोतियाबिंद के लक्षण) और मुख्य कारण

    Motiyabind ke Lakshan: मोतियाबिंद क्या होता है? मोतियाबिंद, जिसे आँखों के लक्षण के रूप में भी जाना जाता है, एक आम आँखी रोग है जिसमें आँख की पुरानी आँख के लेंस (मोती) की पार्श्वगति में ढीलापन हो जाता है। यह रोग आमतौर पर उम्र के साथ होता है, लेकिन कुछ मामूली मामलों में यह बच्चों…

Leave a Comment