Preposition in Hindi: संबंधबोधक – परिभाषा, भेद, कार्य, उदाहरण

संबंधबोधक परिभाषा (Preposition in hindi):-

Preposition in hindi: संबंधबोधक - परिभाषा, भेद, कार्य, उदाहरण

░I░m░p░o░r░t░a░n░t░ ░T░o░p░I░c░s░

Adverb in Hindi: क्रिया विशेषण – परिभाषा, भेद, कार्य, उदाहरण

Tense in Hindi काल किसे कहते हैं?

250+ Best विशेषण शब्द लिस्ट

जो अव्यय संज्ञा के बाद आकर उसका सम्बन्ध वाक्य के दूसरे शब्द के साथ बतलाता है, उसे ‘सम्बन्धबोधक’ कहते हैं, जैसे- वह दिनभर रोता रहा; दवा के बिना रोगी मर गया। पहले वाक्य में ‘भर’ शब्द दिन का सम्बन्ध रोना से और दूसरे वाक्य में ‘बिना’ शब्द दवा का सम्बन्ध मरना से बतलाता है।

संबंधबोधक के कितने भेद हैं?

इन तीन आधारों पर सम्बन्धबोधक अव्यय के भेद किये गये हैं।

१. प्रयोग

२. अर्थ

३. व्युत्पत्ति

१. प्रयोग:- प्रयोग के अनुसार इसके दो भेद है:-

(क) सम्बद्ध
(ख) अनुबद्ध

(क) सम्बद्ध :- सम्बद्ध सम्बन्धबोधक अव्यय संज्ञाओं की विभक्तियों के बाद आते हैं; जैसे- भोजन से पहले घर के बिना यहाँ ‘पहले’ और ‘बिना’ सम्बद्ध सम्बन्धबोधक है, क्योंकि ये ‘भोजन’ तथा ‘घर’ शब्द की विभक्ति (क्रमशः) ‘से’ और ‘के’ के बाद आये हैं।

(ख) अनुबद्ध :- अनुबद्ध सम्बन्धबोधक अव्यय संज्ञा के विकृत रूप के बाद है जैसे बच्चों सहित वर्षों तक कभर यहाँ ‘सहित’, ‘तक’ तथा ‘भ अनुद्धसम्बन्ध है, क्योंकि इसके पहले आये शब्द बच्चों तथा ‘कटोरे क्रमश: ‘बच्चा’, ‘वर्ष’ तथा ‘कटोरा’ शब्द के विकृत रूप है।

२.अर्थ:- अर्थ के अनुसार सम्बन्धबोधक अव्यय के अनेक प्रकार हो सकते:-

(1) कालवाचक:- आगे पीछे पहले, बाद आदि।

(2) स्थानवाचक:- नगदी, समीप, भीतर आदि।

(3) सादृश्यवाचक:- समान, तरह, तुल्य आदि ।

(4) तुलनावाचक:- अपेक्षा, बनिस्बत आदि ।

(5) उद्देश्यवाचक:- लिए, वास्ते, हेतु, निमित्त आदि।


(6) व्यतिरेकवाचक:- रहित,अतिरिक्त, शिवाय, बगैर, शिवा, बिना, अलावा आदि।


(7) कारणवाचक:- के कारण परेशानी से, के मारे, आदि ।


(8) विरोधवाचक:- विपरीत, विरुद्ध,विरोध आदि।


(9) साधनवाचक:- जरिए, द्वारा, माध्यम, सहारे, मार्फत आदि।


(10) तुलनावाचक:- अपेक्षा, समक्ष, समान, के सामने आदि।


(11) उद्देश्यवाचक:- लिए, निमित्त, हेतु, वास्ते आदि।


(12) साहचर्यवाचक:- समेत, साथ, संग, सहित आदि।


(13) संग्रहवाचक:- मात्र, लगभग, केवल, तक, अंतर्गत, भर आदि ।


(14) विषयवाचक:- संबंध, विनय, भरोसे, आश्रय आदि

३. व्युत्पत्ति:- व्युत्पत्ति के अनुसार सम्बन्धबोधक अव्यय के दो भेद है:-

(क) मूल

(ख) यौगिक

(क) मूल:- मूल सम्बन्धबोधक अव्यय- बिना पर्यन्त आदि।

(ख) यौगिक:- यौगिक सम्बन्धबोधक अव्यय- ये दूसरे शब्दों से बने होते हैं। जैसे वास्ते तुल्य पीछे आदि।

Preposition in hindi: संबंधबोधक - परिभाषा, भेद, कार्य, उदाहरण

संबंधबोधक अव्यय उदाहरण in Hindi तथा कार्य:-

१. सम्बन्धबोधक किसी के बाद आकर उसका सम्बन्ध उस वाक्य के दूसरे शब्द के साथ बतलाता है, जैसे- रामू रातभर रोता रहा। यहाँ ‘भर’ सम्बन्धबोधक रात का सम्बन्ध रोना से बतला रहा है।

२. सम्बन्धबोधक काल, स्थान, साम्य तथा तुलना का बोध कराता है,जैसे:-

वह मेरे बाद कक्षा में आया।
उसका मुँह चाँद के समान है।
वह मेरे घर के निकट रहता है।
तुम मेरी अपेक्षा चतुर हो।
यहाँ ‘बाद’, ‘समान’, ‘निकट’ और ‘अपेक्षा सम्बन्धबोधक क्रमशः काल, साम्य स्थान और तुलना का बोध कराते हैं।

अव्यय किसे कहते हैं?

अव्यय परिभाषा:- जिस शब्दरूप में किसी कारण भी कोई विकार नहीं पैदा होता, उसे अव्यय कहते हैं, जैसे- अभी, जब तब आदि ।

अव्यय के कितने भेद हैं?

अव्यय के चार गेंद हैं:-
१. क्रियाविशेषण
२. सम्बन्धबोधक
३. समुच्चयबोधक
४. विस्मयादिबोधक

संबंधबोधक किसे कहते हैं?

जो अव्यय संज्ञा के बाद आकर उसका सम्बन्ध वाक्य के दूसरे शब्द के साथ बतलाता है, उसे ‘सम्बन्धबोधक’ कहते हैं, जैसे- वह दिनभर रोता रहा; दवा के बिना रोगी मर गया। पहले वाक्य में ‘भर’ शब्द दिन का सम्बन्ध रोना से और दूसरे वाक्य में ‘बिना’ शब्द दवा का सम्बन्ध मरना से बतलाता है।

संबंधबोधक के कितने भेद हैं?

इन तीन आधारों पर सम्बन्धबोधक अव्यय के भेद किये गये हैं।
१. प्रयोग
२. अर्थ
३. व्युत्पत्ति

Tage:- संबंधबोधक के कितने भेद हैं, types of preposition in hindi, प्रीपोजिशन कितने प्रकार के होते हैं, प्रीपोजिशन को हिंदी में क्या कहते हैं, Preposition क्या है in Hindi, What is preposition in Hindi Definition, preposition definition and examples, संबंधबोधक Examples.

  • मातृ दिवस पर निबंध 2023 – Best Mother’s Day Essay in Hindi

    मातृ दिवस पर निबंध (Mother’s Day Essay in Hindi) Mother’s Day Essay In Hindi: मदर्स डे हर किसी के लिए एक अहम दिन होता है। एक माँ अपने बच्चे की पहली शिक्षक होती है। एक शिक्षक जो एक मित्र की भूमिका भी निभाता है। एक माँ अपने बच्चे के जन्म से लेकर उसके जीवित रहने … Read more

  • मातृ दिवस पर निबंध 2023 – Best Mother’s Day Essay in Hindi

    मातृ दिवस पर निबंध (Mother’s Day Essay in Hindi) Mother’s Day Essay In Hindi: मदर्स डे हर किसी के लिए एक अहम दिन होता है। एक माँ अपने बच्चे की पहली शिक्षक होती है। एक शिक्षक जो एक मित्र की भूमिका भी निभाता है। एक माँ अपने बच्चे के जन्म से लेकर उसके जीवित रहने … Read more

  • स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 2023 – Best Independence Day Essay

    स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (Independence Day Essay in Hindi) 15 अगस्त 1947 भारतीय इतिहास का सबसे शुभ और महत्वपूर्ण दिन था जब हमारे भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत देश को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर दिया था। भारत की स्वतंत्रता के साथ, भारतीयों ने पंडित जवाहरलाल नेहरू के रूप में अपना … Read more

  • 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर निबंध – Republic Day Essay in Hindi

    गणतंत्र दिवस पर निबंध – Republic Day Essay 26 जनवरी भारत के तीन महत्वपूर्ण राष्ट्रीय पर्वों में से एक है। 26 जनवरी को पूरे देश में बड़े उत्साह और सम्मान के साथ गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत का गणतंत्र और संविधान इसी दिन लागू हुआ था। इसीलिए यह दिन हमारे देश … Read more

  • नारी शिक्षा पर निबंध – Best Nari Shiksha Essay in Hindi 2023

    नारी शिक्षा पर निबंध – Nari Shiksha Essay in Hindi प्रस्तावना – हमारा समाज पुरुष प्रधान है। यहां यह माना जाता है कि पुरुष बाहर जाते हैं और अपने परिवार के लिए कमाते हैं। महिलाओं से अपेक्षा की जाती है कि वे घर पर रहें और परिवार की देखभाल करें। पहले इस व्यवस्था का समाज … Read more

  • Best Circus Essay in Hindi – सर्कस पर निबंध इन हिंदी – 2022

    Circus Essay in Hindi – सर्कस पर निबंध इन हिंदी सर्कस भी मनोरंजन का एक साधन है। जिसे हर उम्र के लोग पसंद करते हैं। सर्कस में तरह-तरह के करतब किए जाते हैं। शेर, हाथी, भालू आदि जंगली जानवरों को सर्कस में प्रशिक्षित किया जाता है और विभिन्न खेल और चश्मे दिखाए जाते हैं। वहीं … Read more

  • वर्षा ऋतु पर निबंध – Best Rainy Season Essay in Hindi 2022

    वर्षा ऋतु पर निबंध (Rainy Season Essay in Hindi) साल के मौसम हमारे लिए बहुत सारी खुशियाँ लेकर आते हैं। भारत में मानसून एक बहुत ही महत्वपूर्ण मौसम है। वर्षा ऋतु मुख्य रूप से आषाढ़, श्रवण और वडो के महीनों में होती है। मुझे बरसात का मौसम बहुत पसंद है। यह भारत में चार सत्रों … Read more

Leave a Comment