लिंग की कमजोरी -10+ Best Ling ki kamzori kaise dur kare

लिंग की कमजोरी (Ling ki kamzori) और टेढ़ापन दूर करने के लिए निम्नलिखित उपचार करें:-

░Y░o░u░ ░M░a░y░ ░a░l░s░o░░L░i░k░e░

नामर्दी का इलाज घरेलु और आयुर्वेदिक उपाय

स्वप्नदोष का आयुर्वेदिक इलाज

लिंग की कमजोरी

प्रकृति के विरुद्ध चलने पर मनुष्य अपने शरीर को नष्ट कर देता है। उसकी ऊर्जा कम हो जाती है, उसकी उम्र कम होने लगती है और उसके चेहरे के भाव फीके पड़ने लगते हैं। हस्तमैथुन, गुदा मैथुन, पशु मैथुन और मुख मैथुन को प्रकृति के विरुद्ध माना जाता है। ऐसे संभोग से पुरुष शक्ति और वीर्य नष्ट हो जाते हैं। वे नपुंसक हो जाते हैं और एक महिला के रूप में एक योग्य जीवन नहीं जीते हैं। बांझपन का मुख्य कारण वीर्य का कम होना है। ऐसे व्यक्ति का वीर्य पानी के समान पतला होता है। सेक्स के दौरान उनका स्खलन जल्दी हो जाता है।

लिंग की कमजोरी - 10+ Best Ling ki kamzori kaise dur kare,
नसों की कमजोरी कैसे दूर करें,
लिंग की कमजोरी

वीर्य को गाढ़ा करने और पुरुषत्व को बनाए रखने के लिए गंदी भावनाओं और गंदे-सेक्सी विचारों से ध्यान हटाने की जरूरत है। इसके अलावा, यहां कुछ अमूल्य टिप्स दिए गए हैं जिनसे आदमी अपनी मर्दानगी हासिल कर सकता है। याद रखें, वीर्य की परत कम, पतली या दूषित होने पर स्खलन होता है। ऐसे में महिलाओं में संबंध बनाने की इच्छा खत्म हो जाती है। जीवन का आनंद जारी है।

वास्तव में स्वस्थ वीर्य पुरुषों का प्रयास है। नारी के सुख का आनंद स्तम्भ शक्ति में है। अत्यधिक संभोग, असमय संभोग, खट्टा, कड़वा, सूखा, अस्थिर, नमकीन और मसालेदार भोजन, चिंता और तनाव और असामान्य स्खलन खाने से ही व्यक्ति नपुंसक हो जाता है।

Ling ki kamjori ka ayurvedic ilaaj:-

>चमेली के पत्तों का तेल या चमेली का तेल दस-पंद्रह दिनों तक लिंग पर मलने से, लिंग का टेढ़ापन दूर हो जाता है। इसे सुपारी छोड़कर आधा घंटा रोज मलें।

>बकरी का घी लिंग पर लगातार कुछ दिन मलने से लिंग पुष्ट और मोटा हो जाता है।

>सूअर की चर्बी और शहद का समभाग लेकर लिंग पर दस-बारह दिन लगाएं। लिंग पुष्ट और मोटा हो जाएगा।

>असगंध का चूर्ण चमेली के तेल के साथ मिलाकर लगाने से लिंग का ढीलापन शीघ्र ही दूर हो जाता है।

>हीरा हींग, शहद में पीसकर लिंग पर लेप करने से लिंग कड़ा होता है और रुकावट भी खूब होती है।

>चमेली के तेल में राई पीसकर लिंग पर लेप करने से, लिंग सख्त हो जाता है।

>शहद और बेल के पत्तों का रस मिलाकर लिंग पर लगाने से लिंग पुष्ट हो जाता है।

>शहद और सुहागा पीसकर लिंग पर लेप करने से निश्चय ही लिंग पुष्ट हो जाता है।

लींग कमजोरी की दवा:-

अंग्रेजी दवा (Allopathic Medicine)से आप जितना दूर रोहिगा उतना अच्छा है। आप अगर महूस कर रहे है की मैं कमजोर हु तो आप आयुर्वेदिक दवा ले शकते है।
जैसे डॉ. जोगीश चंद्र घोष (ढाका) या दुशरे कम्पनी से ले शकते है।
1.सुक्रासंजीवन (Sukrasanjeevan) सुबह ओर शाम को एक एक चमच ले शकते है।
2.अश्वगंधा सिरप(Ashwagandha syrup)

3.मकरद्धज (Makaraddhage ) एक एक गोली सुबह ओर शाम डॉ का परामर्श के अनुरूप ले शकते है।
आप जरूर ठीक हो जायेंगे।

अध्ययनों से पता चला है कि कुछ दवाएं लिंग को नुकसान पहुंचा सकती हैं। यदि आपको संदेह है कि वर्तमान दवाएं इस समस्या का कारण बन रही हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करने में संकोच न करें। ऐसा इसलिए है क्योंकि अक्सर उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं इस समस्या का कारण बन सकती हैं। इसके अलावा, कुछ एंटीडिप्रेसेंट दवाएं आपकी सेक्स ड्राइव को कम कर सकती हैं और इरेक्शन का कारण बन सकती हैं। इसलिए, यदि आप किसी विशेष दवा को लेते समय पेनाइल सैगिंग जैसी किसी समस्या का अनुभव करते हैं, तो घबराएं नहीं बल्कि अपने डॉक्टर से उचित सलाह लें।

लिंग की कमजोरी -10+ Best Ling ki kamzori kaise dur kare
लिंग की कमजोरी

अधिक वजन कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है। मोटापा भी लिंग को आराम दे सकता है। अगर आप इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्या से परेशान हैं तो अपने वजन पर ध्यान दें। यदि आप अधिक वजन वाले हैं, तो इसे कम करने का प्रयास करें। अस्वास्थ्यकर वजन से टाइप 2 मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है जो तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है। नतीजतन, लिंग में तनाव कम किया जा सकता है। इसके अलावा, अधिक वजन होना आपके दिल के लिए बुरा है। इसलिए हृदय को स्वस्थ रखने के लिए आप अपना वजन कम कर सकते हैं और लिंग को शिथिल करने के उपाय कर सकते हैं।

ढीलापन दूर करने की उपाय (नसों की कमजोरी के घरेलू उपाय):-

न्यूरोपैथी – न्यूरोपैथी एक चिकित्सा शब्द है जो विभिन्न प्रकार के तंत्रिका संबंधी रोगों को परिभाषित करता है।यह रोग आपके शरीर के एक या अधिक भागों को प्रभावित करता है।

गर्म सिकाई (compress):-

दर्द और सूजन होने पर गर्म सेंक से काफी आराम मिलता है। अनुभव भी बहुत सहज है। गर्म संपीड़न तंत्रिका दर्द को कम करता है और उन्हें मजबूत करता है। हमारे शरीर के गर्म संकुचन नसों को बहुत आराम देते हैं। हॉट कंप्रेस को कई तरह से किया जा सकता है। गर्म पानी का एक पात्र लें और एक गर्म पट्टी को एक कपड़े या एक जरूरी पट्टी से लें।

ठंडी सिकाई (cold compress):-

गर्म संपीड़न के मामले में, ठंडा संपीड़न कम आरामदायक होता है लेकिन न्यूरोपैथी को कम करने में बहुत प्रभावी होता है, जिससे त्वचा पर सुन्न प्रभाव पड़ता है जो दर्द से राहत देता है। मैं आपको बता दूं कि बर्फ एक एंटी-इंफ्लेमेटरी का काम करती है और सूजन को कम करती है। ठंड नसों को सुन्न करती है, लेकिन यह नसों को भी मजबूत करती है। यदि कोई गर्म संपीड़न से प्रभावित नहीं है, तो कोई ठंडा संपीड़न कर सकता है। इसका उपयोग आवश्यक सामग्री में बर्फ और कपड़े के टुकड़ों के साथ किया जा सकता है।

Green Tea – Ling Ki Kamzori ka ilaj:-

ऐसे में ग्रीन टी के कई फायदे होते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह स्वस्थ तंत्रिका तंत्र के लिए भी बहुत अच्छा है? इसमें L-thananin नाम का पदार्थ होता है जो दिमाग की सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है। ग्रीन टी तनाव को दूर करने में भी मदद करती है।

Ling Ki Kamzori ko Karein Chamomile Tea:-

Chamomile Tea स्वास्थ्यप्रद पेय में से एक है और इसे हर्बल चाय के बीच बहुत लोकप्रिय माना जाता है। कैमोमाइल मूल रूप से एक जड़ी बूटी है जो फूलों से ली जाती है। कैमोमाइल चाय के फायदों के बारे में सभी को पता होना चाहिए। कैमोमाइल चाय बनाने के लिए फूलों को पहले सुखाया जाता है और फिर गर्म पानी में भिगोया जाता है।

Tags:- Ling ki kamzori, लिंग की कमजोरी, ढीलेपन की दवा, ढीलापन दूर करने की दवा, तनाव की आयुर्वेदिक दवा, तनाव की दवा, जोश बढ़ाने की दवा, लींग कमजोरी की दवा।

Best Lemon Farming in India – नींबू की खेती कैसे करें?

Lemon Farming in India – नींबू की खेती कैसे करें? नींबू का उत्पादन व्यापारिक दृष्टिकोण से उष्णकटिबंधीय एवं उप उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में की जाती है भारत दुनिया के देशो में लाईम एवं लेमन उत्पादन में पाँचवा स्थान रखता है। नींबू की खेती के लिए जलवायु एवं मिट्टी केसा होना चाहिए। एसिड लाईम के लिए उष्णकटिबंधीय…

Continue Reading Best Lemon Farming in India – नींबू की खेती कैसे करें?

कालमेघ क्या है? कालमेघ की खेती कैसे करें?

कालमेघ क्या है? (What is Kalmegh in Hindi?) आयुर्वेद में पेट संबंधी रोगों में प्रयुक्त होने वाले पौधों में कालमेघ एक प्रमुख औषधीय पौधा है। तिक्त गुण के कारण यह चिरैता (swaritiya chiraita) के स्थानापन्न द्रव्य के रूप में भी प्रयुक्त होता है। राज्य में यह चिरायता के नाम से जाना जाता है। घरेलू माँग…

Continue Reading कालमेघ क्या है? कालमेघ की खेती कैसे करें?

Soybean in Hindi – No.1 सोयाबीन की खेती करने का तरीका

सोयाबीन परिचय (Soybean in Hindi):- सोयाबीन विश्व की सबसे महत्वपूर्ण तेलहनीवल फसल है. यह एक बहुदेशीय व एक वर्षीय पौधे की फसल है। यह भारत की नंबर वन तेलहनी फसल है, सोयाबीन का वनस्पति नाम गलाइसीन मैक्स है। इसका कुल लम्युमिनेसों के रूप में बहुत कम उपयोग किया जाता है सोयाबीन का उद्गम स्थान अमेरिका…

Continue Reading Soybean in Hindi – No.1 सोयाबीन की खेती करने का तरीका

Best Cultivate Peanuts in Hindi ! मूंगफली की खेती कैसे करे !

Cultivate Peanuts in Hindi ! मूंगफली की खेती:- मूँगफली खरीफ की एक महत्वपूर्ण तिलहनी फसल है। यह खाद्य तेल का बहुत अच्छा स्रोत है। हमारे देश में मूँगफली का उपयोग तेल (80 प्रतिशत), बीज (12 प्रतिशत), घरेलू उपयोग (6 प्रतिशत) एवं निर्यात (2 प्रतिशत) के रूप में होता है। मूँगफली के दानों में 45 प्रतिशत…

Continue Reading Best Cultivate Peanuts in Hindi ! मूंगफली की खेती कैसे करे !

250+ Best Vartani Shabd – शुद्ध वर्तनी शब्द – अर्थ, उदाहरण

Vartani Shabd – शुद्ध वर्तनी शब्द अर्थ, उदाहरण:- एक ही शब्द का लेखन अनेक प्रकार से किया जाता है। इस अव्यवस्था के कारण हिन्दी सीखनेवालों तथा दूसरे लोगों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।विभिन्न परीक्षाओं में शुद्ध अशुद्ध वर्तनी से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। कुछ शब्दों के प्रयोग में तो भारी माथापच्ची…

Continue Reading 250+ Best Vartani Shabd – शुद्ध वर्तनी शब्द – अर्थ, उदाहरण

100+ Best भिन्नार्थक शब्द (श्रुतिसम/समश्रुति)के वाक्य, अर्थ?

श्रुतिसम / समश्रुति भिन्नार्थक शब्द (shrutisam bhinnarthak shabd):- बहत सारे शब्द एक-आध अक्षर या मात्रा के फर्क के बावजूद सुनने में एक से लगते हैं, किन्तु उनके अर्थ में काफी अन्तर रहता है। ऐसे शब्दों को श्रुतिसम (सुनने में एक जैसा लगनेवाले) भिन्नार्थक (किन्तु अर्थ में भित्रता रखनेवाले) कहा जाता है। श्रुतिसम / समश्रुति भिन्नार्थक…

Continue Reading 100+ Best भिन्नार्थक शब्द (श्रुतिसम/समश्रुति)के वाक्य, अर्थ?

Leave a Comment