Best Human Reproductive System in Hindi

░Y░o░u░ ░M░a░y░ ░a░l░s░o░░L░i░k░e░

गर्भधारण कैसे होता है? गर्भ स्थापना होने के 10 लक्षण क्या है

हृदय रोग के कारण

नामर्दी का इलाज घरेलु उपाय

Best Human Reproductive System in Hindi,
Human Reproductive System

Human Reproductive System in Hindi:-

मानवता एक एकलिंगी प्राणी  है, अर्थात् नर और मादा लिंग अलग-अलग जीवों में पाए जाते हैं। जो जीव केवल शुक्राणु पैदा करते हैं उन्हें नर कहा जाता है। जिन जीवों से केवल अंडे उत्पन्न होते हैं उन्हें मादा कहा जाता है। मनुष्यों में प्रजनन प्रणाली अन्य जानवरों की तुलना में बहुत अधिक उन्नत और जटिल है। मनुष्यों में, निषेचन फैलोपियन ट्यूब में और भ्रूण और गर्भाशय में होता है। लोग जीवित हैं, अर्थात वे बच्चों को सीधे जन्म देते हैं।

मानव शरीर में प्रजनन अंग 12 से 13 साल की महिलाओं और 15 से 18 साल के पुरुषों के बीच सक्रिय हो जाते हैं। प्रजनन अंग कुछ हार्मोन का स्राव भी करते हैं जो शरीर में विभिन्न परिवर्तनों का कारण बनते हैं। इस तरह के परिवर्तन अक्सर छाती और प्रजनन अंगों और मादा दाढ़ी और मूंछों वाले पुरुषों में बढ़ते बालों में परिलक्षित होते हैं। नर और मादा प्रजनन अंग मनुष्यों में पूरी तरह से अलग हैं।

पुरुष के जननांग व उनके कार्य (Male Human Reproductive System):-

लिंग के दो भाग होते हैं। लिंग एक बहुत संवेदनशील अंग है, संभोग के दौरान प्राप्त आनंद के कारण महसूस किया जाता है, लिंग में एक छेद होता है जो मूत्र और वीर्य दोनों देता है । शिश्ननली मृदु कोशों से बनी होती है, जो स्पर्श में स्पंज जैसी लगती है। कामोत्तेजना से इस नली की कोशाओं में रक्त संचार होने पर यह कड़ी हो जाती है, इसमें हड्डी बिल्कुल नहीं होती।कामोत्तेजना के माध्यम से स्खलन लिंग से बाहर आता है।

वृषणकोश – दो वृषण ग्रंथियों को दो स्नायुओं की थैलियां ढके रहती हैं। इन्हें वृषणकोश कहते हैं। वे दो कोश शिश्न के बाहर दोनों ओर लटके हुए रहते हैं। प्रत्येक वृषण एक वृषणाकार रज्जु से जुड़ा रहता है। इस रज्जु में रक्त वाहिनियां, नर्वस और स्नायु के तंतु रहते हैं।

वृषण- अंडाकार वृषण शुक्राणु और अंतःस्त्रावों का निर्माण करते हैं। इसके भीतर की परत को अधिवृषण कहते हैं।
शुक्रवाहिनी नलिका-अधिवृषण से जुड़ी हुई 12 से 18 इंच लंबी यह नली होती है। जो शुक्राणुओं को शिश्न तक लाती है।

वीर्यकोश—ये तीन इंच लम्बी दो ग्रंथियां होती हैं, जिससे एक प्रकार का स्त्राव उत्पन्न होता है, यह स्राव शुक्राणुओं का पोषण करता है और उनकी गति को बढ़ाता है।

प्रोस्टेट ग्रंथि – मूत्राशय के नीचे मूत्राशय की ग्रीवा पर दो ग्रंथियां होती हैं, जो वीर्यकोश के स्त्राव के समान स्राव उत्पन्न करती हैं। स्खलनवाहिनी नलिका-प्रोस्टेट ग्रंथि में शुक्राणुवाहिनी नलिका वीर्य कोशों के मुख के साथ जुड़कर स्खलनवाहिनी नलिका बनाती है। संभोग क्रिया के दौरान इनमें इकट्ठा वीर्य बाह्य मूत्रनलिका में से शिश्न से होकर स्त्री की योनि में स्खलित होता है।

कॉपर ग्रंथि- मूत्रोत्सर्गी नलिका के बगल में यह छोटी ग्रंथि प्रोस्टेट ग्रंथि के ठीक नीचे होती है। संवेदी संवेदनाओं के उद्भव के साथ, इन ग्रंथियों से एक सहज निर्वहन होता है। जिसे ‘संभोगपूर्ण स्राव’ कहा जाता है।

मूत्रोत्सर्गिका– मूत्राशय ग्रीवा से बाह्य मूत्रद्वार तक यह 8 इंच की नली मूत्र और वीर्य त्याग का कार्य करती है।

स्त्री के जननांग व उनके कार्य (Female Human Reproductive System):-

बीजकोश- गर्भाशय के दोनों ओर बादाम के आकार की दो ग्रंथियाँ होती हैं, जिन्हें ‘अंडाशय’ कहा जाता है। यह महिला शुक्राणु और महिला हार्मोन के गठन का कारण बनता है।

बीजवाहिनी- बीजकोशों से उत्पन्न स्त्री बीज को गर्भाशय तक ले जाने के लिए ये दो बीजवाहिनियां कार्यरत रहती हैं। ये करीब 4 इंच लंबी होती हैं।

गर्भाशय-स्त्री की कमर के नीचे के भाग में (श्रोणिगुहा) मूत्राशय के पीछे की ओर गर्भाशय रहता है, गर्भ का धारण, पोषण और वृद्धि इसी में होती है, यह मजबूत स्नायुओं के सहारे स्थिर रहता है, लड़कियों में गर्भाशय का आकार हाथ की मुट्ठी के बराबर होता है। गर्भाशय का मुख भाग नीचे की ओर रहता है जो योनि में खुलता है, इसे गर्भाशय ग्रीवा कहते हैं।

योनि- गर्भाशय ग्रीवा से लेकर बाहर दिखाई देने वाले योनि मुख तक योनि का क्षेत्र रहता है। योनि का आकार स्त्रियों में अलग-अलग होता है। लिंग से निकलने वाला वीर्य पहले योनि में प्रवेश करता है और वहाँ से शुक्राणु गर्भाशय के माध्यम से अपनी गति से वायुकोशीय की ओर जाता है।

बाथॉलिन ग्रंथि–बाह्य योनि के ऊपर दो उभार होते हैं, जिन्हें वृहत भगोष्ठ और लघु भगोष्ठ कहते हैं। लघु भगोष्ठ के भीतर ही यह बार्थोलिन ग्रंथि रहती है। स्त्री की उत्तेजित अवस्था में इस ग्रंथि से एक स्त्राव होता है। इस स्राव का निश्चित कार्य अब तक ज्ञात नहीं हुआ है।

स्त्री के जननांगों में गर्भाशयमुख अत्यधिक संवेदनशील होता है। शिश्नमुंड और गर्भाशयमुख के परस्पर घर्षण से स्त्री-पुरुष दोनों को परमानंद की अनुभूति होती है। स्त्रियों की योनि साधारण अवस्था में सिकुड़ी रहती है तथा मैथुन के दौरान फैल जाती है। लड़कियों में 12 वर्ष की उम्र से मासिक स्राव शुरू होता है। दो चक्रों के दरम्यान गर्भाशय की सतह गर्भाधान की दृष्टि से पुष्ट हो जाती है। रक्त वाहिनियां चौड़ी और लंबी हो जाती हैं। गर्भाधान न होने पर ये बढ़ी हुई सतहें झड़ जाती हैं और मासिक स्त्राव के साथ निकल जाती हैं।

स्त्री या पुरुष जननांगों की बनावट में विकृति या बाहरी संक्रमणों (रोगादि) के कारण बांझपन आदि की शिकायत हो जाती है। बाह्य जननांगों की नियमित स्वच्छता कई रोगों के संक्रमण को रोकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *