Best Essay on Netaji Subhash Chandra Bose – सुभाष चंद्र बोस के निबंध

Essay on Netaji Subhash Chandra Bose – सुभाष चंद्र बोस के निबंध

नमस्कार दोस्तों, इस पोस्ट में हम सुभाष चंद्र बोस के निबंध यानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस निबंध पर हिंदी में चर्चा करने जा रहे हैं। हम इस निबंध को 100, 200 और 300 शब्दों में सीखेंगे।

तो चलो शुरू हो जाओ।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे। उनकी कड़ी मेहनत और महान नेतृत्व के कारण उन्हें नेताजी के नाम से जाना जाने लगा। उनका जन्म 26 जनवरी 1896 को उड़ीसा के कटक में हुआ था। उनके पिता का नाम जानकीनाथ बसु और माता का नाम प्रभावती था। नेताजी सुभाष चंद्र बोस एक मेधावी छात्र थे। उन्हें कलकत्ता के प्रेसीडेंसी कॉलेज में भर्ती कराया गया था। उन्होंने एक बार एक अंग्रेजी प्रोफेसर द्वारा की गई भारत विरोधी टिप्पणी के विरोध में हड़ताल का आह्वान किया था। इसलिए उन्हें कॉलेज छोड़ना पड़ा।

Essay on Netaji Subhash Chandra Bose -  सुभाष चंद्र बोस के निबंध

इसके बाद उन्होंने स्कॉटिश चर्च कॉलेज में दाखिला लिया और 1918 में उन्होंने बीए पास किया। उन्होंने आजाद हिंद सेना का नेतृत्व किया और भारतीय स्वतंत्रता के लिए अंतिम युद्ध में विश्वास रखते थे। तुम मुझे मार डालो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा, तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा। उन्होंने भारतीयों को अंग्रेजों के खिलाफ अपने युद्ध में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया। कहा जाता है कि नेताजी की मृत्यु 18 अगस्त, 1945 को एक विमान दुर्घटना में हुई थी, लेकिन उनका शव नहीं मिला था। उनकी मौत एक रहस्य बनी हुई है। देश के लिए उनका काम आज भी हर भारतीय के लिए प्रेरणा है जॉय हिंद जॉय भारत।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा राज्य की राजधानी कटक में हुआ था। उनके पिता श्री जानकीनाथ बोस कटक के जाने-माने वकील थे। सुभाष जी के सगे भाई शरत चंद्र बोस का भी देशभक्तों में उचित स्थान था।

सुभाष चंद्र की प्राथमिक शिक्षा यूरोप के एक स्कूल में हुई थी। 1913 में सुभाषजी ने कलकत्ता विश्वविद्यालय में मैट्रिक की परीक्षा में द्वितीय स्थान प्राप्त किया। इसके बाद उन्होंने उच्च अध्ययन के लिए प्रेसीडेंसी कॉलेज, कलकत्ता में प्रवेश लिया।

इस कॉलेज में एक अंग्रेजी शिक्षक भारतीयों का अपमान करने के लिए जाने जाते थे। सुभाष चंद्र बोस इस तरह के अपमान को सहन नहीं कर सके और शिक्षक को पीटा। मारपीट के आरोप में उन्हें कॉलेज से निकाल दिया गया था।

अपने सकतिश स्कूल से पहली कक्षा में आईसीएस की परीक्षा पास करने के बाद वे घर आए और अपनी सरकारी नौकरी शुरू की।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के भाइयों और बहनों

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पिता का नाम जानकीनाथ और माता का नाम प्रभावती है। उनकी 6 बेटियां और 8 बेटे थे, सुभाष चंद्र बोस उनकी नौवीं संतान और पांचवें बेटे थे।
अपने सभी भाइयों में सुभाष चंद्र के पिता को सुभाष चंद्र बोस से अधिक स्नेह और प्रेम था। नेताजी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा कटक के रेव शॉप कॉलेजिएट स्कूल से प्राप्त की।

नेताजी को अपनी मातृभूमि से प्यार है

सुभाष चंद्र बोस राज्य के लिए आरामदायक जीवन के बजाय आरामदायक और आरामदायक जीवन के निर्माण के पक्ष में थे। इसलिए उन्होंने सरकारी सेवा में लात मारकर देशभक्ति को अहमियत दी है.

1920 में नागपुर में आयोजित कांग्रेस अधिवेशन के दौरान, नेताजी सुभाष चंद्र बोस भारत की स्वतंत्रता के मुख्य दूत महात्मा गांधी के संपर्क में आए। महात्मा गांधी के प्रभाव में उन्होंने कई तरह के अत्याचार सहे और मुक्ति की सांस ली। उन्होंने बिना आराम किए आराम करने के दृढ़ संकल्प के साथ इसे जीवन भर पूरा किया।

Essay on Netaji Subhash Chandra Bose -  सुभाष चंद्र बोस के निबंध

स्वतंत्रता आंदोलन में प्रवेश:

सुभाष चंद्र बोस अरविंद घोष और गांधीजी के जीवन से काफी प्रभावित थे। 1920 में गांधीजी ने असहयोग आंदोलन शुरू किया, जिसमें कई लोग अपनी नौकरी छोड़कर जुड़ गए। इस आंदोलन को लेकर लोगों में खासा उत्साह था।

सुभाष चंद्र बोस ने अपनी नौकरी छोड़ने और आंदोलन में शामिल होने का फैसला किया। वे 1920 के नागपुर अधिवेशन से काफी प्रभावित थे। 20 जुलाई 1921 को सुभाष चंद्र बोस पहली बार गांधीजी से मिले। सुभाष चंद्र बोस को गांधीजी ने नेताजी नाम भी दिया था।

गांधी जी उस समय स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व कर रहे थे जब लोग बड़े उत्साह के साथ भाग ले रहे थे। जैसा कि दासबाबू ने बंगाल में असहयोग आंदोलन का नेतृत्व किया, गांधीजी ने बोस को कलकत्ता जाने और दासबाबू से मिलने की सलाह दी। बसु दासबाबू कलकत्ता में असहयोग आंदोलन में शामिल हो गए।

1921 में, जब भारत में प्रिंस ऑफ वेल्स के आगमन का कड़ाई से बहिष्कार किया गया, तो बोस को छह महीने के लिए जेल जाना पड़ा। स्वराज पार्टी की स्थापना 1923 में कांग्रेस ने की थी। इस पार्टी के अध्यक्ष मोतीलाल नेहरू, चित्तरंजन दास थे। इस समूह का उद्देश्य विधायिका से ब्रिटिश सरकार का विरोध करना था।

स्वराज पार्टी ने नगरपालिका चुनाव जीता, जिसके कारण दशबाबू कलकत्ता के मेयर बने। महापौर चुने जाने के बाद दासबाबू ने बोस को नगर पालिका का कार्यकारी अधिकारी बनाया। इस समय सुभाष चंद्र बोस ने बंगाल में देशभक्ति की ज्वाला प्रज्वलित की, जिससे सुभाष चंद्र बोस देश के एक महत्वपूर्ण युवा नेता और क्रांति के संरक्षक बन गए।

इस समय बंगाल में एक विदेशी की मौत हो गई थी। नेताजी सुभाष चंद्र बोस को हत्या के संदेह में गिरफ्तार किया गया था। बोस ने जीवन भर आंदोलन में भाग लेना शुरू किया और कई बार जेल गए। 1929 और 1937 में वे कलकत्ता अधिवेशन के मेयर बने। 1938 और 1939 में वे कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए।

1920 में, सुभाष चंद्र बोस भारतीय जिला सेवा के लिए चुने गए, लेकिन देश की सेवा के प्रति समर्पण के कारण, वे गांधी के असहयोग आंदोलन में शामिल हो गए। सुभाष चंद्र बोस ने अपनी नौकरी छोड़ दी और 1921 में राजनीति में प्रवेश किया।

क्रांति की शुरुआत: सुभाष चंद्र बोस के मन में अपने छात्र जीवन से ही क्रांति की शुरुआत। कॉलेज के दौरान एक अंग्रेजी शिक्षक ने हिंदी छात्रों के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने पर उन्हें थप्पड़ मार दिया। वहीं से उनकी सोच क्रांतिकारी बन गई।

वह एक क्रांतिकारी क्रांतिकारी भूमिका कानून और जलियांवाला बाग हत्याकांड द्वारा गठित किया गया था। नेताजी सुभाष चंद्र बोस भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से एक थे। बासुजी ने लोगों में राष्ट्रीय एकता, त्याग और साम्प्रदायिक सद्भाव की भावना जगाई।

░Y░o░u░ ░M░a░y░ ░a░l░s░o░░L░i░k░e░

Mahatma Gandhi essay in Hindi

Essay on Dussehra in Hindi

Diwali Essay in Hindi

कांग्रेस से इस्तीफा पत्र:

उनकी एक क्रांतिकारी विचारधारा थी, इसलिए वे कांग्रेस के अहिंसक आंदोलन में विश्वास नहीं करते थे, इसलिए उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया। बोस अंग्रेजों से लड़कर देश को आजाद कराना चाहते थे। उन्होंने देश में हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए फॉरवर्ड ब्लॉक की स्थापना की।

उनके तीखे क्रांतिकारी विचारों और कार्यों से परेशान होकर ब्रिटिश सरकार ने उन्हें जेल भेज दिया। उन्होंने जेल में भूख हड़ताल की, जिससे देश में अशांति फैल गई। नतीजतन, उन्हें घर में नजरबंद रखा गया था। बोस 26 जनवरी 1942 को पुलिस और जासूसों से बच गए।

वह जियाउद्दीन के रूप में काबुल होते हुए जर्मनी पहुंचे। जर्मनी के नेता हिटलर ने उनका स्वागत किया। जर्मन रेडियो स्टेशन से बासुजी ने भारत के लोगों को आजादी का संदेश दिया। देश की आजादी के लिए उनका संघर्ष, बलिदान और बलिदान इतिहास में हमेशा अमर रहेगा।

आजाद हिंद सेना:

बोस जी ने देखा कि एक मजबूत संगठन के बिना आजादी पाना मुश्किल है। वह जर्मनी से टोक्यो गए और वहां उन्होंने आजाद हिंद फौज की स्थापना की। उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय सेना का नेतृत्व किया। यह अंग्रेजों के खिलाफ लड़कर भारत को स्वतंत्र बनाने के लिए बनाया गया था। आजाद हिंद ने फैसला किया कि जब वह लड़ने के लिए दिल्ली पहुंचेंगे, तो वे अपने देश की आजादी की घोषणा करेंगे या शहादत स्वीकार करेंगे। द्वितीय विश्व युद्ध में जापान की हार के कारण आजाद हिंद फौज को भी अपने हथियार डालने पड़े।

सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु:

जापान की हार के कारण आजाद हिंद फौज को भी आत्मसमर्पण करना पड़ा। नेताजी बैंकॉक से टोक्यो जा रहे थे तभी रास्ते में विमान में आग लग गई। लेकिन कई लोगों को नेताजी की मौत पर संदेह है क्योंकि उन्हें नेताजी के शरीर का कोई निशान नहीं मिला।

18 अगस्त, 1945 को, टोक्यो रेडियो ने शोक समाचार प्रसारित किया कि सुभाष चंद्र बोस की विमान दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी। लेकिन उनकी मौत एक रहस्य बनी हुई है। इसीलिए देश के आजाद होने के बाद सरकार ने रहस्य की जांच के लिए एक आयोग भी बनाया, लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकला।

डॉ भीमराव आंबेडकर पर निबंध हिंदी में -Dr B.R. Ambedkar Essay

डॉ भीमराव आंबेडकर पर निबंध हिंदी में:- परिचय: डॉ भीमराव अम्बेडकर बहुत लोकप्रिय नाम हैं। समाज और देश को शीर्ष पर पहुंचाने वाली शख्सियतों में डॉ. भीमराव अंबेडकर का नाम काफी लोकप्रिय है। देश को एक दिव्य, अपेक्षित, निष्पक्ष और सार्थक शासन प्रणाली की संतान माना जाता है। डॉ. भीमराव अंबेडकर का नाम सबसे प्रमुख…

Continue Reading डॉ भीमराव आंबेडकर पर निबंध हिंदी में -Dr B.R. Ambedkar Essay

समय का महत्व पर निबंध – Best Samay ka Mahatva Essay in Hindi

समय का महत्व (Samay ka Mahatva Essay in Hindi):- प्रस्तावना:-समय को महत्व न देना असंभव है। समय का मूल्य निर्धारित नहीं किया जा सकता है। जिस समय के बारे में हम सोच सकते हैं वह हीरे और सोने से भी ज्यादा कीमती है। क्योंकि समय की कीमत हमेशा सबसे ऊपर होती है। समय सबसे शक्तिशाली…

Continue Reading समय का महत्व पर निबंध – Best Samay ka Mahatva Essay in Hindi

Best ABHA Health Card 2022: Benefits, Registration, Download

ABHA Health Card 2022:- आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (ABHA) के तहत भारत सरकार द्वारा डिजिटल हेल्थ कार्ड 2022 लॉन्च किया गया है। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्वास्थ्य कार्ड है क्योंकि आप इस डिजिटल स्वास्थ्य कार्ड से अपने स्वास्थ्य इतिहास को सहेज सकते हैं। लोग डिजिटल हेल्थ कार्ड पंजीकरण फॉर्म 2022 के लिए आवेदन कर…

Continue Reading Best ABHA Health Card 2022: Benefits, Registration, Download

Mera Bharat Mahan Essay in Hindi – मेरा भारत महान निबंध-2022

Mera Bharat Mahan Essay in Hindi – मेरा भारत महान निबंध आज के लेख में हम मेरा भारत महान पर हिंदी में एक लेख लिखेंगे। यह लेख 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के बच्चों और छात्रों के लिए लिखा गया है। मेरा भारत देश महान की…

Continue Reading Mera Bharat Mahan Essay in Hindi – मेरा भारत महान निबंध-2022

कोरोनावायरस पर निबंध – Coronavirus Essay in Hindi 500 words

कोरोनावायरस पर निबंध – coronavirus essay in hindi कोरोनावायरस एक वायरल बीमारी है जिसने महामारी का रूप ले लिया है और दुनिया भर में तबाही मचा रहा है। रोग की शुरुआत सर्दी-खांसी से होती है, जो धीरे-धीरे भयानक रूप धारण कर लेती है और रोगी के श्वसन तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डालती है। ऐसे में…

Continue Reading कोरोनावायरस पर निबंध – Coronavirus Essay in Hindi 500 words

Best Essay on Pollution in Hindi- प्रदूषण पर निबंध हिंदी में

Essay on Pollution in Hindi | प्रदूषण पर निबंध हिंदी में प्रस्तावना बचपन में जब भी मैं गर्मियों की छुट्टियों में अपनी नानी के घर जाता था तो हर तरफ हरियाली सेरेमनी होती थी। हरे-भरे बगीचे में खेलकर बहुत अच्छा लगा। पक्षियों की चहचहाहट सुनकर अच्छा लगा। अब वह दृश्य कहीं देखने को नहीं मिलता।…

Continue Reading Best Essay on Pollution in Hindi- प्रदूषण पर निबंध हिंदी में

Leave a Comment