Best जरशी गाय पालन से 1000 रो लाभ | Dairy Farm se Labh

जरशी (जर्सी) गाय से लाभ Dairy Farm se Labh निम्न प्रकार के होते है :-

शीघ्र प्रजनन योग्य जरशी संकर नस्ल की गाय:-

शीघ्र प्रजनन योग्य जरशी (जर्सी) / संकर नस्ल की गायों Dairy Farm के बाछा-बाछी का जन्म के समय वजन अधिक होता है जिससे उनकी संतान यथा शीघ्र जवान हो सकती है और प्रथम व्यान में इनकी उम्र कम होने पर भी इनके जल्दी दूध तथा बाछा/बाछी से आमदनी होने लगती हैIइसी तरह आप Dairy Farm से तथा जरशी गाय पालन से लाभ कर शकते है |

Dairy Farm se love, जर्सी गायphoto,jarshi gaye photo,
जर्सी गाय

जरशी गाय Dairy Farm का अधिक ब्यांत काल :-

जरशी गाय का अधिक ब्यांत काल : जरशी (जर्सी) / संकर गायों को व्यांतकाल (लेक्टेशन पीरियड) अधिक होने के कारण इनका सुखना / शुष्क काल (ड्राइपिरीएड) की अवधि कम होती है इस प्रकार इन पशुओं का ब्यांत अधिक एवं लम्बा होता है जिससे इसके पूरे ब्यांत Dairy Farming में अधिक मात्रा में दूध मिलता है।

पशुपालन – पूछे जाने वाले प्रश्न एवं समाधानयहाँ क्लिक करें|

पशुओं की देखभाल, कैसे करेंयहाँ क्लिक करें |

जरशी गाय पालन से 1000 रो लाभयहाँ क्लिक करें |

जरशी गाय Dairy Farming का जीवन काल की उत्पादकता :-

जरशी (जर्सी) गाय का जीवन काल की उत्पादकता : यह बस जल्दी-जल्दी ब्यांत हैं जिससे इनके जीवन काल में दो व्यातों के बीच का समय कम होता है। अतः इन पशुओं के जीवन काल में ज्यादा दूध तथा अधिक संतान मिलती हैं। इसके ब्यांत काल में दूध Dairy Farm की मात्रा भी अधिक होती है जिससे इन गायों से दुग्ध उत्पादन किया जाना व्यवसाय की दृष्टि से लाभदायक होता है।

जरशी (जर्सी) गाय ब्याने के बाद पुनः गर्भधारण :-

जरशी गाय ब्याने के बाद पुनः गर्भधारण : यह पशु व्याने के बाद 2-3 माह में ही पुनः ऋतुचक्र में आकर गाभिन हो जाते हैं। इस प्रकार इनके पालन में प्रत्येक 13-15 महीने के समय में अगले बच्चे तथा व्यांत लिए जा सकते हैं।

जरशी गाय Dairy Farm वसा (घी) की मात्रा :-

जरशी गाय Dairy Farm वसा (घी) की मात्रा : भैंसों की तुलना में यद्यपि गायों के दूध में वसा की मात्रा कम होती है, लेकिन एक ब्यांत काल तथा सभी ब्यांतों से प्राप्त दूध की यदि कुल वसा जोड़ी जाय तो निश्चित रूप से इस निर्णय पर पहुंचा जा सकता है कि संकर नस्ल की गाय के संपूर्ण जीवन काल में कुल वसा की मात्रा भैंस की तुलना में अधिक होती है । उक्त आधार पर पशुपालकों के लिए यह नेक सुझाव है कि वे पशुपालन एवं दुग्ध उत्पादन व्यवसाय में अधिक से अधिक संकर गायों को रखे जिससे अधिक दूध उत्पादन मिल सके।

देशी गाय क्यों कम दूध देती है ?

घर की गाय अगर देशी है या उन्नत नस्ल की नहीं है तो संकर नस्ल या विदेशी नस्ल की तुलना में दूध Dairy Farm देने की क्षमता कम होती है। दूध उत्पादन की क्षमता गाय की नस्ल पर निर्भर करती है। दूध उत्पादन आनुवांशिक गुण है कभी-कभी अच्छी नस्ल की गाय ॐ संतुलित आहार की कमी के कारण या उचित देखभाल के अभाव में कम दूध देने लगती है। अगर ऐसी बात है तो खिलाने-पिला तथा देखभाल में सुधार की जरूरत है।

ऐसे भी दुधारू गायों को संतुलित भोजन के अलावे प्रतिदिन प्रचूर मात्रा में हरा चारा तथा खनिज एवम् विटामिन्स का मिश्रण निर्धारित मात्रा में देना चाहिए। प्रतिदिन पानी भी प्रचुर मात्रा में पिलाना चाहिए। गर्भावस्था में तो संतुलित एवम् पौष्टिक आहार देना चाहिए। कभी-कभी सामान्य प्रसव नहीं होने के कारण भी दूध उत्पादन पर असर पड़ता है।

संकर नस्ल की गाय बार-बार पाल क्यों खाती है?

पाल खाने के 7 महीने बाद क्यों गर्म हो जाती है? पाल दिलाने के दो महीने बाद गाभिन जांच करा लेना चाहिए। क्योंकि कुछ गायें ऐसी होती हैं जो पाल दिलाने के बाद निर्धारित समय पर गर्म भी नहीं होती हैं और गाभिन भी नहीं होती हैं। इसमें किसान को आर्थिक रूप में नुकसान होता है बांझपन संबंधी कोई समस्या गाय के जनन अंगों की जांच के बाद ही पता लगता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *