Best 10. गर्भवती गाय भैंस की देखभाल कैसे करें |

गर्भवती गाय भैंस की देखभाल के लिए निम्नलिखित बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए :-

1.6-7 महीने के मवेशियों को चरने के लिए बहुत दूर नहीं ले जाना चाहिए। कठिन रास्तों पर न चलें।

2. यदि गाभिन पशु दूध दे रहा हो तो गर्भावस्था के 7वें महीने के बाद दूध निकालना बंद कर देना चाहिए।

3. पशुओं के आवागमन के लिए पर्याप्त स्थान होना चाहिए। जहां पश बंधा होता है, वहां पीछे की मंजिल सामने से थोड़ी ऊंची होनी चाहिए।

4.गर्भवती गाय जानवरों को पौष्टिक भोजन की आवश्यकता होती है। खिलाने के दौरान, दूध के बुखार और कीटनाशकों जैसी कोई बीमारी नहीं होनी चाहिए और दूध उत्पादन पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं होना चाहिए, इसलिए निम्नलिखित भोजन प्रदान किए जाने चाहिए:

हरा चारा …………………….25 से 30 किलो,
सूखा चारा…………………..5 किलो,
संतुलित पशु आहार………3 किलो,
खली………………………..1 किलो,
खनिज मिश्रण……………..50 ग्राम,
नमक ………………………30 ग्राम,

जरशी गाय पालन से 1000 रो लाभClick hear

पशुपालन – पूछे जाने वाले प्रश्न एवं समाधानClick hear

पशुओं की देखभाल, कैसे करें Click hear

4. गाभिन पशु को पीने के लिए 75 से 80 लीटर प्रतिदिन स्वच्छ व ताजा पानी उपलब्ध कराना चाहिए।

6. 6-7 महीने बाद, जब जानवर पहली बार गर्भवती हो जाता है, तो उसे अन्य डेयरी जानवरों से जोड़ा जाना चाहिए और शरीर, पीठ और जाल की मालिश करनी चाहिए।

7.यात्रा से 4-5 दिन पहले टी को एक अलग स्थान पर बांध दिया जाना चाहिए। याद रखें कि जगह साफ, हवादार और हल्की होनी चाहिए। धक्का देने के लिए फर्श पर सूखा भूसा रखकर व्यवस्था की जानी चाहिए।

8. ब्याने के 1-2 दिन पहले से पशु पर लगातार नजर रखनी चाहिए।

ब्याने के समय और ब्याने के बाद गर्भवती गाय भैंस की देखभाल की देखभाल:-

ब्याने के समय गर्भवती गाय भैंस की देखभाल :-

मार्ग से एक दिन पहले गर्भवती जानवर के प्रजनन अंग से द्रव स्राव होता है। जानवर को बिना परेशान किए हर घंटे (रात के दौरान भी) देखा जाना चाहिए।व्याने के समय जननांग से एक द्रव से भरा बुल-बुला सा निकलता है जो धीरे-धीरे बड़ा हो जाता है और अंत में फट जाता है। उसमें बच्चे के खुर का भाग दिखाई देता है और फिर अगले पैरों के घुटनों के बीच सिर दिखाई पड़ता है। धीरे-धीरे अपने आप बच्चा बाहर आ जाता है।

कभी-कभी गाभिन पशु अशक्त हो जाता है तो बच्चे को बाहर आने में तकलीफ होती है। ऐसी स्थिति में एक अनुभवी व्यक्ति बच्चे को बाहर निकालने में मदद कर सकता है। यदि ऊपर वर्णित स्थिति में अंतर है, तो तुरंत एक पशु चिकित्सक से संपर्क करें।

ब्याने के बाद गर्भवती गाय भैंस की देखभाल :-

ब्याने के बाद जेर गिरने का इंतजार करना चाहिए। सामान्यतः 10-12 घंटे में जेर गिर जाता है। जैसे ही जेर गिर जाए, उसे उठाकर जमीन में गड्ढा कर के गाड़ देना चाहिए। यदि 24 घंटे तक जूं नहीं गिरती है, तो इसे पशु चिकित्सक से संपर्क करके हटा दिया जाना चाहिए।

दूध पिलाने के 15-20 मिनट बाद देना चाहिए। जन्म देने के बाद जानवर बहुत थक जाता है,अतः आसानी से पचने वाला भोजन, जैसे गर्म चावल, उबला हुआ बाजरा, तेल मिलाय गेहूं, गुड़, सोया, अजवाइन, मेथी, अदरक देना चाहिये। ये जेर गिराने में भी सहायता करता है। पशु को ताजा हरा चारा व पानी, उसकी इच्छानुसार देना चाहिये। पशु को गर्म पानी नहीं देना चाहिये।

गर्भवती गाय भैंस की देखभाल
गर्भवती गाय भैंस की देखभाल

यदि लोबिया गिरने के बाद सर्दी है, तो पशु को कुछ गर्म पानी से स्नान कराया जाना चाहिए और अगर यह गर्म है, तो ताजे पानी के साथ।

गर्भवती गाय भैंस की देखभाल के लिए ,ब्याने के बाद पशु को कोई बीमारी हो तो तुरंत पशु चिकित्सक को बुलाना चाहिए।

गर्भाधान के लिए अगली बार गर्मी में आने की प्रतीक्षा करनी चाहिये। यदि इन दिनों में पशु गर्मी में नहीं आता है तो पशु चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए। होने वाले किसी भी परेशानी को समझ सकें।

गरीबी एवं जागरूकता के अभाव में किसान पशुओं को संतुलित मात्रा में पौष्टिक आहार एवं खनिज लवण नहीं दे पाते हैं, जिससे यहां के पशुओं में न सिर्फ उत्पादकता की कमी है बल्कि उनमें बांझपन की समस्या आम है। 75 प्रतिशत बांझपन संतुलित आहार एवं खनिज-लवण की कमी से होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *