स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 2023 – Best Independence Day Essay

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (Independence Day Essay in Hindi)

15 अगस्त 1947 भारतीय इतिहास का सबसे शुभ और महत्वपूर्ण दिन था जब हमारे भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत देश को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर दिया था। भारत की स्वतंत्रता के साथ, भारतीयों ने पंडित जवाहरलाल नेहरू के रूप में अपना पहला प्रधान मंत्री चुना, जिन्होंने राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली में लाल किले पर पहली बार तिरंगा झंडा फहराया। आज हर भारतीय इस खास दिन को त्योहार की तरह मनाता है।

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 2023 - Best Independence Day Essay

स्वतंत्रता दिवस का महत्व

15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) लोगों में देशभक्ति की भावना पैदा करता है। यह लोगों को एक साथ लाता है और उन्हें यह महसूस कराता है कि हम विभिन्न भाषाओं, धर्मों और सांस्कृतिक मूल्यों के साथ एक राष्ट्र हैं। अनेकता में एकता भारत का सार और शक्ति है। हमें दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का हिस्सा होने पर गर्व है, जहां सत्ता आम लोगों के हाथों में होती है। हर साल 15 अगस्त को हम उस दिन को मनाते हैं जब हम एक स्वतंत्र राष्ट्र बने थे, जिसका अर्थ है कि हम खुद पर शासन करने के लिए स्वतंत्र थे और किसी और के द्वारा शासित नहीं थे।

15 अगस्त पर हिंदी में निबंध कैसे लिखें

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध – 15 अगस्त हिंदी में निबंध

स्वतंत्रता दिवस भारत में हर साल 15 अगस्त को जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। पूरे देश में राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाने वाला यह दिन देश के इतिहास में लाल पत्र दिवस के नाम से भी जाना जाता है। स्वतंत्रता दिवस निबंध के साथ आप भारत के स्वतंत्रता इतिहास के हर महत्वपूर्ण बिंदु के बारे में जान सकते हैं। 15 अगस्त को ध्वजारोहण और सामाजिक कार्यक्रमों के साथ एक सार्वजनिक उत्सव के रूप में मनाया जाता है।

स्कूल, विश्वविद्यालय, कार्यस्थल, सामाजिक भवन और सार्वजनिक और निजी संगठन इस दिन को उत्साह के साथ मनाते हैं। इस पावन अवसर पर देश के प्रधानमंत्री ने लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज का तिरंगा फहराया और भाषण के माध्यम से देश को संबोधित किया। इस पूरे रंगारंग कार्यक्रम के रोमांचक दृश्यों को देशवासियों को दूरदर्शन चैनल पर लाइव दिखाया गया.

बहुत से लोग स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री के भाषण का इंतजार करते हैं। स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री का भाषण एक महत्वपूर्ण भाषण है। हमारे पहले प्रधान मंत्री श्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने “ट्रस्ट विद डेस्टिनी” नामक एक भाषण में देश की स्वतंत्रता की घोषणा की। उन्होंने कहा कि हमें भविष्य में विश्वास के साथ देश के विकास में जुट जाना चाहिए।

200 साल के घोर संघर्ष के बाद इतने बड़े देश को चलाना एक बड़ी समस्या थी लेकिन हमारे राजनेताओं ने इस लगभग असंभव कार्य को संभव कर दिखाया। यही कारण है कि 15 अगस्त हर भारतीय के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। अलग-अलग लोग इस दिन को अलग-अलग तरीके से मनाते हैं, लेकिन हर किसी के रास्ते में तिरंगा झंडा होता है। इसके साथ आने वाले दिनों में भी यह पर्व ऐसे ही रहेगा और भारत हर क्षेत्र में बुलंदियों को छूता रहेगा, आगामी स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं।

15 अगस्त को हम अपने स्वतंत्रता सेनानियों को याद करने के लिए इस दिन को मनाते हैं। क्योंकि उन्होंने आजादी के लिए बहुत संघर्ष किया जिसमें कई योद्धाओं ने अपने प्राणों की आहुति भी दी। स्वतंत्रता दिवस ही एकमात्र ऐसा दिन है जो इतिहास के पन्नों में खुद को दोहराता है और एक ऐसा दिन है जब शहीदों को याद किया जाता है। यह एक महत्वपूर्ण दिन है जब भारत में रहने वाले विभिन्न धर्मों और जातियों के लोग अपने सभी सांस्कृतिक मतभेदों को भूल जाते हैं और इस दिन को बड़े उत्साह के साथ मनाने के लिए एक सच्चे भारतीय के रूप में एकजुट होते हैं।

यह भी पढ़ें – 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर निबंध

स्वतंत्रता का गौरव

प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता के गौरवपूर्ण पर्व के रूप में मनाया जाता है। भारत इस दिन ब्रिटिश शासन से मुक्त हुआ था। लंबे संघर्ष के बाद यह आजादी मिली थी। इस दिन भारत के प्रधानमंत्री ने लाल किले पर भाषण दिया था। स्वतंत्रता आंदोलन में महात्मा गांधी का सबसे महत्वपूर्ण योगदान था।

स्वतंत्रता संग्राम में चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस आदि ने भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। 15 अगस्त वह दिन है जब भारत आजाद हुआ था। यह दिन एक ऐतिहासिक दिन है। इस दिन हम बोलने, लिखने और चलने-फिरने के लिए स्वतंत्र थे। 15 अगस्त इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा गया है। 200 साल की गुलामी के बाद भारत को आजादी मिली। इस वजह से आजादी का पर्व बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है।

इतिहास का एक महत्वपूर्ण क्षण

(1) भारत में अंग्रेजों का आगमन- 17वीं शताब्दी में अंग्रेज व्यापार करने के बहाने भारत आए। उस समय भारत पर मुगलों का शासन था। अंग्रेजों ने व्यापार के बहाने अपनी सैन्य शक्ति में वृद्धि की। छल-कपट से अनेक राजाओं को पराजित किया और अनेक क्षेत्रों पर अधिकार कर लिया। 18वीं शताब्दी तक ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपना प्रभुत्व स्थापित कर लिया था।

2) भारत गुलाम बना- अंग्रेज भारतीयों को शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे। भारतीय ब्रिटिश ताज के अधीन हो गए। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, भारतीयों को बड़ी संख्या में जबरन सेना में भर्ती किया गया था। अंग्रेजों ने जलियांवाला बाग जैसे नरसंहार को अंजाम दिया। भारतीय केवल अंग्रेजों के गुलाम बनकर रह गए।

(3) कांग्रेस पार्टी का गठन हुआ – 28 दिसम्बर 1885 को कांग्रेस पार्टी का गठन हुआ। राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी की स्थापना 64 लोगों ने की थी। यह समूह क्रांतिकारी गतिविधियों का संचालन करता है।

(4) भारत का विभाजन- भारत के स्वतंत्र होते ही साम्प्रदायिक दंगे शुरू हो गए। दंगों का परिणाम देश का विभाजन था। जवाहरलाल नेहरू भारत के प्रधान मंत्री बने और जिन्ना पाकिस्तान के प्रधान मंत्री बने। महात्मा गांधी के शांति प्रयासों के बावजूद मरने वालों की संख्या लाखों में थी। आजादी की खुशी के साथ नरसंहार का गम भी था।

(5) स्वतंत्रता समारोह- बहादुर सैनिकों और दंगों में मारे गए लोगों को याद करने के लिए हर साल स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। लोगों ने एकजुट होकर आजादी की लड़ाई लड़ी। कुछ प्रमुख देशभक्त भगत सिंह, सुखदेव और सुभाष चंद्र बोस हैं। स्वतंत्रता संग्राम में कई महिलाओं ने भी योगदान दिया। सरोजिनी नायडू और बेसेंट कुछ प्रमुख महिला क्रांतिकारी हैं।

यह भी पढ़ें –

क्रिकेट पर निबंध 500 शब्दों में

नारी शिक्षा पर निबंध

हाइड्रोसील से नुकसान क्या क्या है ।

हाइड्रोसील से नुकसान: जानिए इस स्वास्थ्य समस्या से जुड़ी सबसे महत्वपूर्ण जानकारी हाइड्रोसील से नुकसान: जानिए इस स्वास्थ्य समस्या से जुड़ी सबसे महत्वपूर्ण जानकारीहाइड्रोसील क्या होता है?हाइड्रोसील के कारणहाइड्रोसील के लक्षणहाइड्रोसील के नुकसानहाइड्रोसील का उपचारक्या हाइड्रोसील से बचा जा सकता है?सामान्य प्रश्न (FAQ)हाइड्रोसील क्या होता है?क्या हाइड्रोसील के बिना इलाज के बढ़ सकता है?हाइड्रोसील का…

Continue Reading हाइड्रोसील से नुकसान क्या क्या है ।

हाइड्रोसील: पूरी जानकारी, उपचार और निवारण

हाइड्रोसील: एक परिचय हाइड्रोसील एक मेडिकल समस्या है जिसमें पुरुषों के यौन अंगों के आसपास की नसों में पानी इकट्ठा हो जाता है। इसके परिणामस्वरूप एक यौवन या अवसादक सूजन की रूप में दिखाई देता है। हाइड्रोसील: एक परिचयहाइड्रोसील के लक्षणहाइड्रोसील के कारणहाइड्रोसील के उपचार के विकल्प निम्नलिखित हो सकते हैं:हाइड्रोसील की रोकथाम और निवारणसामान्य…

Continue Reading हाइड्रोसील: पूरी जानकारी, उपचार और निवारण

पपीते से हाइड्रोसील का इलाज

पपीते से हाइड्रोसील का इलाज: एक संक्षिप्त अवलोकन हाइड्रोसील एक ऐसी स्थिति है जिसमें पुरुषों के अंडकोष में पानी का इकट्ठा हो जाता है, जिससे यह सूज जाता है। यह आम बीमारी है, और इसके इलाज के लिए कई तरीके मौजूद हैं। पपीते के गुण: हाइड्रोसील में उपयोगी पपीते में कई गुण होते हैं जो…

Continue Reading पपीते से हाइड्रोसील का इलाज

लहसुन से हाइड्रोसील का इलाज कैसे करें – पुरी जानकारी

लहसुन से हाइड्रोसील का इलाज लहसुन से हाइड्रोसील का इलाजहाइड्रोसील: एक अवश्यक जानकारीलहसुन का औषधीय महत्वलहसुन के फायदे हाइड्रोसील के इलाज मेंलहसुन का सेवन कैसे करेंसावधानियां और सुझावसामान्य प्रश्न (FAQ)क्या लहसुन हाइड्रोसील के इलाज के रूप में सुरक्षित है?क्या लहसुन का सेवन करने से हाइड्रोसील हो जाएगा?क्या लहसुन के सेवन के बाद मुँह का बदबू…

Continue Reading लहसुन से हाइड्रोसील का इलाज कैसे करें – पुरी जानकारी

चिड़चिड़ापन दूर करने का घरेलू उपाय – एक पूरी जानकारी

चिड़चिड़ापन दूर करने का घरेलू उपाय चिड़चिड़ापन दूर करने का घरेलू उपायचिड़चिड़ापन के कारणघरेलू उपाय: कैसे दूर करें चिड़चिड़ापन?चिड़चिड़ापन के उपायों के फायदेक्या आपको चिड़चिड़ापन का तुरंत इलाज की आवश्यकता है?सावधानियाँ और सुझावसामान्य प्रश्न (FAQ) चिड़चिड़ापन दूर करने का घरेलू उपाय:चिड़चिड़ापन क्या है और यह हमारे जीवन को कैसे प्रभावित करता है?क्या घरेलू उपाय से…

Continue Reading चिड़चिड़ापन दूर करने का घरेलू उपाय – एक पूरी जानकारी

हाइड्रोसील में क्या नहीं खाना चाहिए – एक पूरी जानकारी

हाइड्रोसील में क्या नहीं खाना चाहिए: हाइड्रोसील में क्या नहीं खाना चाहिए: यहाँ हम आपको बताएंगे कि हाइड्रोसील के रोगी क्या खाना चाहिए और किन खाने की चीजों से बचना चाहिए ताकि उनका स्वास्थ्य बेहतर बने। हाइड्रोसील में क्या नहीं खाना चाहिए:हाइड्रोसील: एक संक्षेपक्यों होता है हाइड्रोसील?कैसे खाएं हाइड्रोसील में?हाइड्रोसील में नहीं खाना चाहिए क्या?सावधानियां…

Continue Reading हाइड्रोसील में क्या नहीं खाना चाहिए – एक पूरी जानकारी

Leave a Comment