Best संज्ञा की परिभाषा- संज्ञा के कितने भेद होते हैं, उदाहरण

संज्ञा की परिभाषा (sangya kise kahate hain), संज्ञा किसे कहते हैं उदाहरण सहित:-

संज्ञा की परिभाषा | संज्ञा के कितने भेद होते हैं उदाहरण सहित?

░Y░o░u░ ░M░a░y░ ░a░l░s░o░░L░i░k░e░

विरामचिह्न – अभ्यास, परिभाषा, प्रयोग, और उदाहरण

.शब्द किसे कहते हैं इन हिंदी

वर्ण किसे कहते हैं

परिभाषा – किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, भाव आदि के नामों को ‘संज्ञा’ कहते हैं।

जैसे- मनुष्य, मूर्खता, पत्थर, सेना आदि।

संज्ञा के निम्नलिखित प्रमुख कार्य है:-

(क) व्यक्तियों, ग्रह-नक्षत्रों , नदियों, पहाड़ों, राज्यों, देशों, महादेशों, पत्र पत्रिकाओं, पुस्तकों, दिनों महीनों आदि के नामों का बोध कराना। जैसे:- विन्ध्याचल, बिहार, रूस, एशिया, गंगा, कामायनी, चन्दामामा आदि।

(ख) पक्षियों, मिठाइयों, पशुओं,सवारियों आदि के नामों का बोध कराना। जैसे—गाय,साइकिल, जलेबी, कबूतर, आदि।

(ग) समूह का बोध कराना। जैसे- सेना, झुंड आदि।

(घ) किसी धातु या द्रव्य का बोध कराना।जैसे – घी , सोना, चाँदी, आदि।

(ङ) व्यक्ति या पदार्थों के भाव, धर्म, गुण आदि का बोध कराना। जैसे— मित्रता, चतुराई, दया, कृपा, उष्णता, आदि ।

संज्ञा के कितने भेद होते हैं उदाहरण सहित:-

अर्थ के आधार पर संज्ञा के पाँच भेद हैं:-

१. व्यक्तिवाचक

२. जातिवाचक

३. समूहवाचक

४. द्रव्यवाचक

५. भाववाचक

१. व्यक्तिवाचक:-व्यक्तिवाचक संज्ञा किसी विशेष व्यक्ति या स्थान का बोध कराती है; जैसे- गंगा, तुलसीदास, पटना, राम, हिमालय आदि। हिन्दी में व्यक्तिवाचक संज्ञा की संख्या सर्वाधिक है।

व्यक्तिवाचक संज्ञाओं में निम्नलिखित नाम समाविष्ट होते हैं:-

(क) व्यक्तियों के अपने नाम – जदु, मधु, ताहिर, साम आदि।

(ख) नदियों के नाम गंगा, गंडक, यमुना आदि।

(ग) झीलों के नाम-डल, बैकाल आदि।

(घ) समुद्रों के नाम- -प्रशान्त महासागर, हिन्द महासागर

(ङ) पहाड़ों के नाम- आल्स, विन्ध्य हिमालय आदि।

(च) गाँवों के नाम पैनाल, मनिअप्पा, बिस्पी आदि।

(छ) नगरों के नाम -जमशेदपुर, पटना, राँची आदि ।

(ज) सड़कों, दुकानों, प्रकाशनों आदि के नाम- अशोक राजपथ,परिधान, भारती भवन आदि।

(झ) महादेशों के नाम- एशिया, यूरोप आदि।

(ञ) देशों के नाम- चीन, भारतवर्ष, रूस आदि।

(ट) राज्यों के नाम- उड़ीसा, बिहार, महाराष्ट्र आदि।

(ठ) पुस्तकों के नाम- रामचरितमानस, सूरसागर आदि।

(ड) पत्र-पत्रिकाओं के नाम- दिनमान, अवकाश-जगत् आदि।

(ढ) त्योहारों, ऐतिहासिक घटनाओं के नाम- गणतंत्र दिवस, बालदिवस,रक्षाबंधन, शिक्षक-दिवस, होली, आदि।

(ण) ग्रह-नक्षत्रों के नाम चंद्र, रोहिणी, सूर्य आदि।

(त) महीनों के नाम- आश्विन, कार्तिक, जनवरी आदि।

(थ) दिनों के नाम- सोमवार, मंगलवार, बुधवार आदि।

२. जातिवाचक संज्ञा:- जातिवाचक संज्ञा किसी वस्तु या प्राणी की संपूर्ण जाति का बोध कराती है। जैसे गाय, नदी, पहाड़, मनुष्य आदि । ‘गाय’ किसी एक गाय को नहीं कहते, अपितु यह शब्द सम्पूर्ण गोजाति के लिए प्रयुक्त होता है। ‘मनुष्य’ शब्द किसी एक व्यक्ति के नाम को सूचित न कर ‘मानव’ जाति का बोध कराता है।

निम्नलिखित जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण होते हैं-

(क) पशुओं, पक्षियों एवं कीट-पतंगों के नाम-खटमल, गाय, घोड़ा,चील, मैना आदि।

(ख) फलों, फूलों, सब्जियों के नाम- आम, केला, आदि।

(ग) विभिन्न सामग्रियों के नाम- आलमारी, कुर्सी, घड़ी, टेबुल आदि।

(घ) सवारियों के नाम- नाव, मोटर, रेल, साइकिल आदि।

(ङ) संबंधियों के नाम बहन, भाई आदि।

(च) व्यावसायिकों, पदों एवं पदाधिकारियों के नाम दर्जी, धोबी, भंगी,राज्यपाल आदि।

व्यक्तिवाचक संज्ञा और जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण:-

व्यक्तिवाचकजातिवाचक
तुलसीदासकवि
सीतास्त्री
गंगानदी
कलकत्तानगर
हिमालयपहाड़
भारतवर्षदेश

३. समूहवाचक संज्ञा:-समूहवाचक संज्ञा पदार्थों के समूह का बोध कराती है; जैसे—झब्बा, दल, सभा, गिरोह, झुंड,  सेना आदि। ये शब्द किसी एक व्यक्ति या वस्तु का बोध न कराकर अनेक का उनके समूह का बोध कराते हैं।


४. द्रव्यवाचक संज्ञा:-द्रव्यवाचक संज्ञा किसी धातु या द्रव्य का बोध कराती है; जैसे- पानी, चांदी, पीतल, सोना, घी आदि। द्रव्यवाचक संज्ञा की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसके पूर्ण रूप और अंश के नाम में कोई अन्तर नहीं होता, जबकि जातिवाचक के पूर्ण रूप और अंश के नाम में पर्याप्त हो जाता है। एक टुकड़ा सोना भी सोना है और एक बड़ा खंड भी सोना है, एक बूँद घी भी घी है और एक किलो घी भी घी है; किन्तु एक पूरे वृक्ष के टुकड़े को हम वृक्ष कदापि नहीं कहेंगे। उसे सिल्ली, टहनी, डाली आदि जो कह लें। द्रव्यवाचक संज्ञा से निर्मित पदार्थ जातिवाचक संज्ञा होते हैं।

५. भाववाचक संज्ञा:-भाववाचक संज्ञा व्यक्ति या पदार्थों के धर्म या गुण का बोध कराती है; जैसे- वीरता, चौड़ाई, मिठास, अच्छाई,लंबाई, आदि। भाववाचक संज्ञा में निम्नलिखित समाविष्ट होते हैं:-

(क) गुण- कुशाग्रता, चतुराई, सौन्दर्य आदि।

(ख) भाव – कृपणता, मित्रता, शत्रुता आदि।

(घ) माप – ऊँचाई, चौड़ाई, लम्बाई आदि।

(ङ) क्रिया दौड़धूप, पढ़ाई लिखाई आदि।

(च) गति फुर्ती, शीघ्रता, सुस्ती आदि।

संज्ञाओं के भेद दूसरा आधार पर किये जा सकते हैं-

पहला वर्गीकरण :-वस्तु की जीवंतता या अजीवंतता के आधार पर-प्राणि वाचक संज्ञा तथा अप्राणिवाचक संज्ञा के रूप में किया जा सकता है। घोड़ा, पक्षी, लड़का, आदि में जीवन है, ये चल-फिर सकते हैं; अतः इन्हें प्राणिवाचक
संज्ञा कहेंगे। पेड़, दीवार, ईंट आदि में जीवन नहीं है, ये न चल सकते हैं, न बोल सकते हैं, इसलिए इन्हें अप्राणिवाचक संज्ञा कहेंगे।

दूसरा वर्गीकरण:- गणना के आधार पर हो सकता है। ‘ जामुन’ शब्द को लें। ‘ जामुन’ को हम गिन सकते हैं. -एक, दो, तीन आदि। किन्तु ‘ जल’ को हम गिन नहीं सकते, केवल माप सकते हैं। प्रेम-घृणा आदि की भी गिनती नहीं हो सकती। इस तरह संज्ञा के भेद हुए- गणनीय और अगणनीय। इस वर्गीकरण का व्याकरण की दृष्टि से महत्त्व यह है कि गणनीय संज्ञा वे हैं जिनके एकवचन और बहुवचन दोनों होते हैं। अगणनीय संज्ञा का प्रयोग सदा एकवचन में होता है।

तीसरा वर्गीकरण:- व्युत्पत्ति की दृष्टि से संज्ञा के तीन भेद होते हैं :-

१. रूढ – ऐसी संज्ञाएँ जिनके खंड निरर्थक होते हैं, जैसे-‘ जामुन ‘। ‘ जामुन ‘ शब्द का ‘जा’ और ‘न’ अलग-अलग कर दें, तो इनका कुछ भी अर्थ नहीं हो सकता। हाथ, पैर, मुँह, घर आदि रूढ़ संज्ञा के उदाहरण है।

२. यौगिक – ऐसी संज्ञाएँ जिनके खंड सार्थक होते हैं, जैसे रसोईघर । ‘रसोईघर’ के दो खंड हैं-‘रसोई’ और ‘घर’। ये दोनों खंड सार्थक है। विद्यार्थी, पाठशाला, हिमालय, पुस्तकालय, आदि यौगिक संज्ञा के उदाहरण हैं।

३. योगरूढ़ – ऐसी संज्ञाएँ जिनके खंड सार्थक हों, परन्तु जिनका अर्थ खंड-शब्दों से निकलने वाले अर्थ से भिन्न हो; जैसे- पंकज ‘पंकज’ के दोनों खंड ‘पॅक’ और ‘ज’ सार्थक है। ‘पंक’ का अर्थ है ‘कीचड़’ और ‘ज’ का अर्थ है ‘जन्मा हुआ’, किन्तु ‘पंकज’ का अर्थ होगा ‘कमल’ न कि ‘कीचड़ से जन्मा हुआ।

Soybean in Hindi – No.1 सोयाबीन की खेती करने का तरीका

सोयाबीन परिचय (Soybean in Hindi):- सोयाबीन विश्व की सबसे महत्वपूर्ण तेलहनीवल फसल है. यह एक बहुदेशीय व एक वर्षीय पौधे की फसल है। यह भारत की नंबर वन तेलहनी फसल है, सोयाबीन का वनस्पति नाम गलाइसीन मैक्स है। इसका कुल लम्युमिनेसों के रूप में बहुत कम उपयोग किया जाता है सोयाबीन का उद्गम स्थान अमेरिका…

Continue Reading Soybean in Hindi – No.1 सोयाबीन की खेती करने का तरीका

Best Cultivate Peanuts in Hindi ! मूंगफली की खेती कैसे करे !

Cultivate Peanuts in Hindi ! मूंगफली की खेती:- मूँगफली खरीफ की एक महत्वपूर्ण तिलहनी फसल है। यह खाद्य तेल का बहुत अच्छा स्रोत है। हमारे देश में मूँगफली का उपयोग तेल (80 प्रतिशत), बीज (12 प्रतिशत), घरेलू उपयोग (6 प्रतिशत) एवं निर्यात (2 प्रतिशत) के रूप में होता है। मूँगफली के दानों में 45 प्रतिशत…

Continue Reading Best Cultivate Peanuts in Hindi ! मूंगफली की खेती कैसे करे !

250+ Best Vartani Shabd – शुद्ध वर्तनी शब्द – अर्थ, उदाहरण

Vartani Shabd – शुद्ध वर्तनी शब्द अर्थ, उदाहरण:- एक ही शब्द का लेखन अनेक प्रकार से किया जाता है। इस अव्यवस्था के कारण हिन्दी सीखनेवालों तथा दूसरे लोगों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।विभिन्न परीक्षाओं में शुद्ध अशुद्ध वर्तनी से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। कुछ शब्दों के प्रयोग में तो भारी माथापच्ची…

Continue Reading 250+ Best Vartani Shabd – शुद्ध वर्तनी शब्द – अर्थ, उदाहरण

100+ Best भिन्नार्थक शब्द (श्रुतिसम/समश्रुति)के वाक्य, अर्थ?

श्रुतिसम / समश्रुति भिन्नार्थक शब्द (shrutisam bhinnarthak shabd):- बहत सारे शब्द एक-आध अक्षर या मात्रा के फर्क के बावजूद सुनने में एक से लगते हैं, किन्तु उनके अर्थ में काफी अन्तर रहता है। ऐसे शब्दों को श्रुतिसम (सुनने में एक जैसा लगनेवाले) भिन्नार्थक (किन्तु अर्थ में भित्रता रखनेवाले) कहा जाता है। श्रुतिसम / समश्रुति भिन्नार्थक…

Continue Reading 100+ Best भिन्नार्थक शब्द (श्रुतिसम/समश्रुति)के वाक्य, अर्थ?

Best Tatpurush Samas in Hindi – तत्पुरुष समास के 10 उदाहरण

तत्पुरुष समास की परिभाषा (Tatpurush Samas in Hindi):- ░I░m░p░o░r░t░a░n░t░ ░T░o░p░i░c░s░ पर्यायवाची शब्द? विलोम शब्द? क्रिया विशेषण? Tense in Hindi संज्ञा की परिभाषा? विशेषण शब्द लिस्ट? सर्वनाम किसे कहते हैं? पदबंध class 10, वाक्य किसे कहते हैं, इसके कितने भेद हैं? जिस समस्तपद में उत्तरपद (अन्तिम पद) की प्रधानता रहती है, उसे ‘तत्पुरुष समास’ कहते हैं,…

Continue Reading Best Tatpurush Samas in Hindi – तत्पुरुष समास के 10 उदाहरण

Best vakya ke bhed:वाक्य किसे कहते हैं इसके कितने भेद हैं?

वाक्य किसे कहते हैं? (vakya ki paribhasha):- व्याकरण के नियमों के अनुसार सजाये गये सार्थक शब्दों के जिस समूह से कोई तात्पर्य स्पष्ट रूप से प्रकट हो जाय, उसे ‘वाक्य’ कहते हैं; जैसे- उमेश पुस्तक पढ़ता है। रानी गीत गाती है। इन शब्द-समूहों से लेखक या वक्ता का पूरा भाव व्यक्त हो जाता है, अतः…

Continue Reading Best vakya ke bhed:वाक्य किसे कहते हैं इसके कितने भेद हैं?




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *