100+ Best भिन्नार्थक शब्द (श्रुतिसम/समश्रुति)के वाक्य, अर्थ?

श्रुतिसम / समश्रुति भिन्नार्थक शब्द (shrutisam bhinnarthak shabd):-

बहत सारे शब्द एक-आध अक्षर या मात्रा के फर्क के बावजूद सुनने में एक से लगते हैं, किन्तु उनके अर्थ में काफी अन्तर रहता है। ऐसे शब्दों को श्रुतिसम (सुनने में एक जैसा लगनेवाले) भिन्नार्थक (किन्तु अर्थ में भित्रता रखनेवाले) कहा जाता है।

श्रुतिसम / समश्रुति भिन्नार्थक शब्द के वाक्य,अर्थ:-

भिन्नार्थक शब्द (श्रुतिसम/समश्रुति)के वाक्य, अर्थ?

100 श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द:-

1.अवधि – निश्चित समय
अवधी – अवध देश
3. कश -चाबुक
कष – कसौटी
कस -दबाव
2 कुजन – बुरा आदमी
कूजन-पक्षियों की चहचहाहट
3.काश – खाँसी
कास – एक प्रकार की घास
4.चास – खेती
चाष – नीलकण्ठ पक्षी
5. इति – समाप्त
ईति – शस्य – विघ्न
6. कृति – कार्य, रचना
कृती – यशस्वी
कृत्ति – मृगचर्म,
7. कलि – कलियुग
कली – अधखिला फूल
8. चूर-चूर्ण
चूड़ -चोटी
9. जवान – युवा
जबान – जीभ
10. दाव – जंगल की आग
दाब – दबाव
11. नित – प्रतिदिन
नीत- -लाया हुआ
13. नेति – जिसका अन्त न हो
नेती – मथानी की रस्सी
14. परुष – कठोर
पुरुष – मर्द
15.पानी – जल
पाणि – हाथ
16.पाश – बंधन, जाल
पास – निकट
17. पाश – बंधन, जाल
पास -निकट
18. जब – जिस समय
जव – वेग, जौ
19. दिन – दिवस
दीन – दरिद्र
20. तरणी – नौका
तरणि – सूर्य
तरुणी – युवती
21. तव – तुम्हारा
तब – उसके बाद
22. दूत – संवादवाहक
द्यूत – जुआ
23. द्विप – हाथी
द्वीप – टापू

श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द Class 9:-

24.प्रसाद – कृपा
प्रासाद – महल
25.कूल – किनारा
कुल – वंश
26.ईषा – हल की लम्बी लकड़ी जिसमें जुआ लगाते हैं.
ईशा – दुर्गा
27.उपरक्त – भोग-विलास में लीन
उपरत – विरक्त
28.उद्यत – तैयार
उद्धत – उद्दण्ड
29.कृत – किया हुआ
क्रीत – खरीदा हुआ
30.क्रम – सिलसिला
कर्म – कार्य
31.अनल – आग
अनिल – हवा
32.अनु – पीछे
अणु – कण
33.अपेक्षा – इच्छा, बनिस्बत
उपेक्षा – अनादर
34.अस्त्र – आँसु
अस्त्र – हथियार
35.आदि – आरम्भ
आदी – अभ्यस्त
आधि – मानसिक कष्ट
36.कंगाल – भिखारी
कंकाल – हड्डियों की ठठरी
37.कोस – दूरी की माप
कोष – खजाना
38.च्युत – गिरा हुआ
च्युत – गिरा हुआ
चूत – आम
39.जगत् – संसार
जगत – कुएँ का उभरा घेरा
40.फन – कला, हुनर
फण – साँप का फण
41.परिषद् – सभा
पार्षद – परिषद् के सदस्य
42.पुर – नगर
पूर- आधिक्य, बाढ़
43.प्रकृत – यथार्थ, प्रसंगगत, प्रकरणगत
प्राकृत – एक प्राचीन भाषा
44.प्रवाल – मूँगा
प्रवार – वस्त्र
45.नारी-स्त्री
नाड़ी – नब्ज

░I░m░p░o░r░t░a░n░t░ ░T░o░p░i░c░s░

पर्यायवाची शब्द? विलोम शब्द? क्रिया विशेषण?

Tense in Hindi संज्ञा की परिभाषा? विशेषण शब्द लिस्ट?

सर्वनाम किसे कहते हैं? पदबंध class 10, वाक्य किसे कहते हैं, इसके कितने भेद हैं?

shrutisam bhinnarthak shabd in hindi class 9:-

46.अब – इस समय
अव – एक उपसर्ग
47.अंश – भाग, खण्ड
अंस – कंधा
48.अंगना – स्त्री
अंगना – घर का आँगन
49.अर्घ्य पूजनीय
अर्घ- मूल्य
50.अभिहित – कथित
अविहित – अनुचित
51.असित -काला
अशित- भुक्त, भोथा, उजला
52.अणी – लोहे की नोक
अनी – सेना
53.इत्र – सेंट
इतर – दूसरा
54.आहुत – यज्ञ में दिया गया
आहूत – आमंत्रित
55.आली – सखी
अलि – भौंरा
56.आसन्न – निकट
आसन्न – बैठने की वस्तु
57.कुच – स्तन
कूच – प्रस्थान
58.गज – हाथी
गज – दो हाथ की माप
59.चिर – बहुत समय, दीर्घ
चीर – वस्त्र-खंड
56.चसक – शराब का प्याला, घूँट
चषक – आदत
57.निहत – मारा हुआ
निहित – छिपा हुआ, रखा हुआ
58.नीड़ – घोंसला
नीर – जल
59.कलिल – मिश्रित
कलील – थोड़ा
60.कपिश – भूरा
कपीश – बन्दरों का राजा
61.केसर – कुंकुम
केसर – सिंह की गरदन के बाल
52.लक्ष – लाख
लक्ष्य – उद्देश्य
63.लाश – शव
लास्य – एक स्त्रैण नृत्य
100+ Best भिन्नार्थक शब्द (श्रुतिसम/समश्रुति)के वाक्य, अर्थ?

समश्रुति भिन्नार्थक शब्द:-

64.वसन – वस्त्र
व्यसन – आदत
65.वरण – चुनना, विवाह करना
वरन – बल्कि
66.शय्या – बिछावन
सज्जा – सजावट
67.शूर – वीर
सुर – देवता
सूर – अंधा, सूर्य
68.शुक्ति – सीप
सूक्ति – अच्छी उक्ति
69.शंकर – शिव
संकर – मिश्रित, दोगला
70.शाला – घर
साला – पत्नी का भाई
71.शब – रात
शव – लाश
सब – सम्पूर्ण
72.सुधी – विद्वान्
सुधि – याद
73.स्वक्ष – सुन्दर आँख
स्वच्छ -साफ
74.सागर – समुद्र
सागर – प्याला
75.हरि – विष्णु
हरी – हरे रंग की
76.हार – पराजय
हाड़ – हड्डी
77.सुकृति – पुण्य
सुकृती – पुण्यवान्
78.शर्व – शंकर
सर्व – सभी
79.शप्त – शाप पाया हुआ
सप्त – सात संख्या
80.शती – सौ का समूह
सती – पतिव्रता
81.विष – जहर
विस – कमल का डंठल
82.वारीश – समुद्र
बारिश – वर्षा
83.विस्तर – विस्तार
विस्तर – विछावन
84.बदन – शरीर
वदन – मुख
85.व्रण – घाव
वर्ण – रंग, अक्षर,

Bhinnarthak shabd examples:-

86.बलि – बलिदान
बली – शक्तिशाली
87.बार – दफा
वार – दिन, चोट
88.बाला – लड़की
वाला – एक प्रत्यय
89.बात – वचन
वात – हवा
90.मरीचि – किरण
मरीची – सूर्य
91.मणि – एक बहुमूल्य पत्थर
मणी – मनियारा साँप
92.मेघ – बादल
मेध – यज्ञ
93.राज – राजा के अर्थ में
राज – रहस्य
94.शम – शान्ति
सम – बराबर
95.बाण – तीर
बान – आदत, रस्सी
96.फुट – अकेला, बारह इंच की माप
फूट – बैर, मतभेद
97.शित – तेज किया गया
शीत – ठंढा
98.श्वपच – चाण्डाल
स्वपच – स्वयं अपना भोजन बनानेवाला
99.शकल – खण्ड, मुखाकृति
सकल – पूरा
100.शकृत – विष्ठा
सकृत् – एक बार
101.शान – प्रतिष्ठा
शाण – औजार तेज करने का
102.सुत – पुत्र
सृत – सारथी
103.सपत्नी सौत – सौत
सपत्नीक – पत्नी-सहित
104.सुकर – सहज
सूकर – सूअर
105.सूची – तालिका
शुचि – पवित्र
106.वरद – वर देनेवाला
विरद – यश
107.शर – बाण
सर – तालाब, महाशय (अँगरेजी)
108.वास – निवास
बास – गन्ध

Tags:- भिन्नार्थक शब्द, भिन्नार्थक शब्द in hindi, समश्रुति भिन्नार्थक शब्द, श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द, समोच्चरित भिन्नार्थक शब्द, समरूपी भिन्नार्थक शब्द, Bhinnarthak shabd examples, Homonyms Words, भिन्नार्थक शब्द क्या होता है?

  • 100+ Best भिन्नार्थक शब्द (श्रुतिसम/समश्रुति)के वाक्य, अर्थ?

    श्रुतिसम / समश्रुति भिन्नार्थक शब्द (shrutisam bhinnarthak shabd):- बहत सारे शब्द एक-आध अक्षर या मात्रा के फर्क के बावजूद सुनने

  • Best Tatpurush Samas in Hindi – तत्पुरुष समास के 10 उदाहरण

    तत्पुरुष समास की परिभाषा (Tatpurush Samas in Hindi):- ░I░m░p░o░r░t░a░n░t░ ░T░o░p░i░c░s░ पर्यायवाची शब्द? विलोम शब्द? क्रिया विशेषण? Tense in Hindi संज्ञा

  • Best vakya ke bhed:वाक्य किसे कहते हैं इसके कितने भेद हैं?

    वाक्य किसे कहते हैं? (vakya ki paribhasha):- व्याकरण के नियमों के अनुसार सजाये गये सार्थक शब्दों के जिस समूह से

  • Best padbandh class 10: पदबंध (Phrase) के कितने भेद होते हैं

    Padbandh class 10: पदबंध:- वाक्य के उस भाग को जिसमें एक से अधिक पद परस्पर सम्बद्ध होकर अर्थ तो देते

  • 250+ Best Lokoktiyan in Hindi – लोकोक्तियाँ – proverbs

    लोकोक्तियाँ किसे कहते हैं- Lokoktiyan in Hindi:- जिस वाक्य से अर्थ स्पष्ट हो, उसे कहावत कहते हैं। महापुरुषों, कवियों और

  • 501+ Best Muhavare in Hindi: हिंदी मुहावरे और अर्थ और वाक्य

    हिंदी मुहावरे और अर्थ और वाक्य(Muhavare in Hindi):- मुहावरे ऐसे वाक्यांश होते हैं,जिनसे वाक्य सुसंगठित, चमत्कारजनक और सारगर्भ बनते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *