गर्भावस्था में कैसा भोजन करना चाहिए – pregnancy food tips

░Y░o░u░ ░M░a░y░ ░a░l░s░o░░L░i░k░e░

गर्भधारण कैसे होता है? गर्भ स्थापना होने के 10 लक्षण क्या है।

Human Reproductive System in Hindi

हृदय रोग के कारण

शरीर में परिवर्तन के कारण, इस अवधि के दौरान महिला का अरुचि पैदा होती है, दूसरी तरफ तथ्य यह है कि इस समय के दौरान उनका आहार पौष्टिक और संतुलित होना चाहिए। इस समय आहार में दो जीवों के स्वास्थ्य का ध्यान रखना आवश्यक है।

गर्भावस्था में कैसा भोजन करना चाहिए pregnancy food tips in hindi:-

यदि गर्भवती महिला मधुमेह रोग से ग्रस्त है, तो उसे चिकित्सक के परामर्श से पौष्टिक भोजन लेना चाहिए। यह भी जरूरी है कि वह बीच में शर्करा की मात्रा की जांच कराये।

शुरुआत में यह स्पष्ट किया गया था कि भोजन पौष्टिक और संतुलित होना चाहिए। गर्भावस्था में भोजन के पौष्टिक होने की बात तो लोगों को समझ आती है जबकि संतुलन वाली नहीं।। एक गर्भवती आहार में संतुलित मात्रा में प्रोटीन, विटामिन, खनिज लवण, वसा और पानी शामिल होना चाहिए। तीन से चार महीने की उम्र में भ्रूण में हड्डियों के विकास से शरीर में कैल्शियम की मांग बढ़ जाती है। यही कारण है कि महिलाओं ने उस समय राख, मिट्टी, चाक और स्लेटी खाना शुरू कर दिया। यदि महिलाएं ऐसा करती हैं, तो यह संकेत है कि उनकी कैल्शियम की जरूरत पूरी नहीं हो रही है।

कुछ महिलाएं पानी को नजरअंदाज करती हैं। पाचन में पानी का विशेष महत्व है। यह शरीर से विभिन्न विषाक्त पदार्थों को निकालने की प्रक्रिया में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। रक्त के निर्माण में पानी का भी विशेष हाथ है। इस अवस्था में रहने वाले ’कब्ज’ को कम करने में संतुलित पानी की महत्वपूर्ण भूमिका है।

एक नई खोज के अनुसार, विशेषज्ञ गर्भवती महिलाओं के लिए एक आहार की नयी खोजों के अनुसार विशेषज्ञों की सलाह है कि गर्भवती महिलाओं को ऐसा आहार दें, जो तंतुवर्धक (टिश्यू बिल्डर्स) हो, शरीर रक्षक (प्रोटेक्टिव) हो और यह भी कि इस अवस्था में पर्याप्त कैलोरी व वसा की अपेक्षा प्रोटीन की ज्यादा मात्रा में जरूरत होती है—साधारण प्रोटीन के अलावा 20 ग्राम प्रोटीन अलग से। शरीर में यदि प्रोटीन की कमी हो, तो ऑक्सीजन ग्रहण करने की क्षमता में कमी आ जाती है।

यह भ्रूण के भावनात्मक विकास को भी नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। प्रोटीन पाचन के लिए विटामिन की आवश्यकता होती है और विटामिन की भी आवश्यकता होती है ताकि भ्रूण को पर्याप्त पोषण मिल सके। विटामिन की आपूर्ति के लिए, केवल प्राकृतिक स्रोतों को लेना बेहतर है लेकिन अगर यह संभव नहीं है, तो आप डॉक्टर की सलाह से इन कमियों को दूर कर सकते हैं।

शरीर के निर्माण में क्योंकि खनिजों की अहम भूमिका है, शरीर का 1/25 भाग खनिजों से ही निर्मित होता है, इसलिए इसकी शरीर में कमी न हो इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए। फॉस्फोरस अस्थियों के निर्माण के साथ ही, रक्त को शुरू करता है और स्नायुओं को सशक्त बनाता है। इसकी कमी से शिशु के मानसिक विकास पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

उपरोक्त सभी आवश्यकताओं को प्राकृतिक रूप से दालों, सब्जियों और डेयरी उत्पादों द्वारा पूरा किया जा सकता है। शाकाहारी मांस, मछली, अंडे आदि खाकर ऐसा कर सकते हैं। हां, इस प्रकार का भोजन खरीदते समय उन्हें विशेष ध्यान रखना चाहिए, ताजी हो, नीरोग हो ।

गर्भवती को ऐसी चीजें नहीं खानी चाहिए जो गरिष्ठ हों, जिन्हें पचाने में श्रम की आवश्यकता हो। वायु पैदा करने वाली खाद्य सामग्री से भी परहेज करें।

गर्भवती महिला के संतुलित भोजन की तालिका दी जा रही है:-

gharvasta may kaisha khana hai
gharvasta may kaisha khana chahie
gharvasta may kaisha khana chahiye
gharvasta may kaisha khana khana

आहारमात्रा (ग्राम में)
दूध, दही आदि400-500
फल व हरी सब्जियां200-300
चावल, गेहूं (अन्न)150-200
मांस, मछली, अंडा60-70
दालें, लोबिया, चने, राजमा50-60
चीनी, गुड़, शक्कर आदि घी, तेल, मक्खन आदि40-45
घी, तेल, मखनआदि35-50
गर्भावस्था में कैसा भोजन करना चाहिए

यदि गर्भवती महिला कुपोषित है, तो गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क पर हानिकारक प्रभाव डाल सकता है, जो उसे या उसके मानसिक रूप से कमजोर बना सकता है। कुछ अन्य कारकों के अलावा बच्चे की बुद्धि का विकास यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि वह गर्भ में कितनी देर थी और एक पौष्टिक आहार पर कितनी दूर थी।

गर्भावस्था में तीसरे से छठे महीने का समय ऐसा होता है, जब शिशु के दिमाग का तेजी से विकास होता है और यह विकास उसके पैदा होने के दो साल बाद तक इसी रफ्तार से होता है।

गर्भावस्था में कैसा भोजन करना चाहिए ,gharvasta may kaisha khana hai
gharvasta may kaisha khana chahie
gharvasta may kaisha khana chahiye
gharvasta may kaisha khana khana
गर्भावस्था में कैसा भोजन करना चाहिए

कुपोषण के शिकार शिशुओं के दिमाग में कोशिकाएं कम होती हैं और इस नुकसान की भरपाई कभी नहीं हो सकती। हालांकि शिशु में भरपूर पौष्टिक आहार की कमी अगर बाद की अवस्था में होती है, तो कोशिकाओं का आकार कम हो जाता है और जिसकी भरपाई भी हो सकती है। शुरुआती अवस्था में बच्चे की सेहत मां की सेहत पर निर्भर करती है। उदाहरण के लिए अगर मां में विटामिन की कमी है तो यह कमी बच्चे को स्वाभाविक रूप से मिल जाती है।

आयोडीन, जिंक और मैगनीज जैसे खनिज बच्चे के दिमाग के विकास के लिए जरूरी हैं। इनकी कमी से समझने की शक्ति तो प्रभावित होती ही है, साथ ही वह आलसी और दिमागी रूप से कमजोर भी हो सकता है।

गर्भवती को स्वयं ध्यान देना चाहिए:-

मन न होते हुए भी थोड़ा-थोड़ा खाएं।

→ वही खाएं, जो आसानी से पच सकता हो, जो वायुकारक न हो, जो न तो

ज्यादा गरम हो, न ही ज्यादा ठंडा।

→ खाना खाते समय धैर्य रखें, जल्दबाजी न करें। जो भी खाएं, खूब चबाएं। → इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखें कि आपकी थोड़ी-सी भी लापरवाही आपके गर्भ में पल रही संतान के लिए शाप सिद्ध हो सकती है। उसकी पूरी जिम्मेदारी आपकी है-किसी दूसरे की नहीं।

गर्भवती महिला को प्रतिदिन 1300 कैलोरी की अधिक आवश्यकता होती है। वह जवान लड़की, जो गर्भवती नहीं है, उसे प्रतिदिन 0.9 ग्राम प्रोटीन प्रति किग्रा. चाहिए और गर्भवती महिला को प्रतिदिन 30 ग्राम या इससे अधिक प्रोटीन की आवश्यकता होती है। प्रतिदिन महिलाओं को एक किग्रा. दूध या दूध से बनी चीजें लेनी चाहिए।

गाय के 250 ग्राम दूध में एक ग्राम कैल्शियम होता है। यदि भोजन में फॉस्फोरस व कैल्शियम की मात्रा ठीक नहीं है तो बच्चों में रिकेट्स की बीमारी या दांतों में कीड़े लगने का डर रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *